Storage Device क्या है और कितने प्रकार के है? What is Storage Device and What its TypesStorage Device क्या है और कितने प्रकार के है? What is Storage Device and What its Types

Storage Device क्या है और कितने प्रकार के है? What is Storage Device and What its TypesStorage Device क्या है और कितने प्रकार के है? What is Storage Device and What its Types

Storage Device क्या है और कितने प्रकार के है?

हेलो दोस्तों आपका फिर से स्वागत है हमारे मोटिवेशनल वेबसाइटस पर आज हम बात करने वाले है की Storage Device क्या है और कितने प्रकार के है? और हमने अगली बार बात की थी की UPS क्या है और कैसे काम करता है? और हमें उम्मीद है आपको हमारा ब्लॉग जरूर से पसंद आया होगा। तो चलिए हम शुरू करते है आज का हमारा टॉपिक जो की है Storage Device क्या है और कितने प्रकार के है?

हम आपको हमारी आज की पोस्ट में ऐसी जानकारी देंगे जा रहे है जिसके बारे में अधिकतर लोग नही जानते होंगे अगर आप Computer Storage Devices In Hindi के बारे में जानना चाहते है तो हमारी पोस्ट ज़रुर पढ़े हमे उम्मीद है आपको आपके सारे सवालों के जवाब हमारी आज की पोस्ट में मिलेंगे।

कई लोग ऐसे होंगे जिन्हें Primary और Secondary Storage डिवाइस के बारे में नही पता होगा अगर आप इसके बारे में जानना चाहते है तो हम आपको इसके बारे पूरी जानकारी देंगे और इसके साथ ही आपको Types Of Storage Devices In Hindi के बारे में जानने को मिलेगा।

Storage Device का Use Data को Digitally Store करके रखने के लिए किया जाता है यह एक Hardware डिवाइस है जिसमे Data को Permanently और Termporarily Store करके रख सकते है अगर आप इसके बारे में और अधिक जानकारी पाना चाहते है तो हमारी पोस्ट Secondary Storage Device In Hindi को शुरू से अंत तक ज़रूर पढ़े।

स्टोरेज डिवाइस क्या है (Storage Device in Hindi)

Storage Device को Digital Storage, Storage Media और Storage Medium के नाम से जाना जाता है यह Storage Device स्थायी और अस्थायी रूप से जानकारी को Store करके रखने में सक्षम हार्डवेयर है।
साथ ही यह Data और Information को Digital रूप से Permanently और Temporarily Store करके रखती है। Computer में Data Storage ऐसी जगह होते है जो Data को Electromegnetic और Optical Form में Store करते है जिससे बाद में जरूरत पड़ने पर Computer Processor Data को बड़ी आसानी से Access कर सके।

Storage Device किसी भी Device के मूल Component में से एक है यह हार्डवेयर और फर्मवेयर को छोड़कर कंप्यूटर पर लगभग सभी Data और Application को Store करते है।

  • Primary Storage Device In Hindi

अगर हम Primary Storage के बारे में बात करे तो उनकी Memory अस्थायी होती है या जिसे Voletile भी कहते है Primary Storage का मतलब कंप्यूटर की Main Memory से है जिसमे कंप्यूटर में Store Data को Fastly Access किया जा सकता है Primary Storage दो तरह की होती है Ram और Rom अगर आप Ram और Rom के बारे में जानना चाहते है तो हमारी Website से जान सकते है।

  • Secondary Storage Device In Hindi

यह Computer की Permanent Memory होती है जिसमे Data और Information स्थाई रूप से Store रहता है। Secondary Storage Device को Auxiliary Storage Device भी कहा जाता है इनमें Data रखने की Capicity अधिक होती है क्योंकि इनकी Storage क्षमता अधिक होती है।

यह Internal और External रूप से Data को Store करके रखते है जैसे- Hard Disk, Optical Disk Drive और Usb Storage Device आदि। इसमे Data की Storage को घटा-बढ़ा भी सकते है और इसमे Data Access करने की गति Primary Storage से धीमी होती है।

Secondary storage की एक खास feature ये भी है की ये removable, internal, और external storage भी हो सकती हैं।

लोकल स्टोरेज डिवाइस के प्रकार-

1. External Hard Drive

ये उन hard drives के तरह ही है जिन्हें की आपके desktop computer और Laptops में install किया गया है. इनमें जो main अंतर वो ये की इन्हें आप computer में plug सकते हैं, या फिर उन्हें निकाल भी सकते हैं और या फिर आप इन्हें main computer से separate भी रख सकते हैं. ये मुख्यतः दो sizes में मिलता है :

Desktop External Hard drive : जो की करीब 3.5 inch की होती है और जिन्हें desktop computers में इस्तमाल किया जाता है।

Portable External Hard drive : जो की करीब 2.5 inch की होती है और जिन्हें Laptops में इस्तमाल किया जाता है।

Desktop External Hard Drives अक्सर सस्ते होते हैं Portable External Hard Drives की तुलना में वही समान storage space के आधार पर।इसके साथ वो Portable External Hard Drives से ज्यादा faster और robust भी होते हैं।

Capacity : इनकी Capacity 160GB से 3TB (approx 3000GB) तक की होती है।

Connection : ये computer को USB 2.0 or USB 3.0 connection के द्वारा जुड़ता है. इसके साथ ये SATA or eSATA connector में भी available होता है।

Advantages :
1. ये बहुत ही अच्छा option है local backups के लिए जहाँ की large amounts of data होता है।

2. ये सबसे सस्ता option होता है storage के लिए अगर हम dollars per GB की बात करें तब. इसके साथ ये बहुत ही reliable होता है अगर इसे सही तरीके से अगर handle किया जाये तब।

Disadvantages :
1. ये बहुत ही delicate होता है. ये बहुत आसानी से damage हो सकता है अगर इसे कहीं पर अगर गिरा दिया जाये या electricity की voltage में ऊपर निचे हो तब।

2. Solid State Drive (SSD)

Solid State Drives दिखने में और काम करने में बहुत ही similar होता है traditional mechanical/ magnetic hard drives के तरह।लेकिन ये Internally, पूरा ही अलग होता है।इनमें कोई भी moving parts or rotating platers नहीं होते हैं।ये solely depend करते हैं semiconductors और electronics पर data storage के लिए जो की इसे ज्यादा reliable और robust बनाते हैं traditional magnetic hard drive से।यहाँ पर moving parts के न होने से ये traditional hard drives की तुलना में कम power का इस्तमाल करते हैं और बहुत ही तेज़ काम करते हैं।
जैसे की हम जानते हैं की Solid State Drives की कीमत दिनबदिन कम होते जा रहे हैं और इसके lower power usage की वजह से, SSD’s को आजकल भरी मात्रा में laptops और mobile devices में इस्तमाल किया जा रहा है. इसके साथ External SSD’s एक बहुत ही अच्छा option है data backups के लिए।

Capacity : 64GB to 256GB

Connections : USB 2.0/3.0 and SATA

Advantages :
1. ये बहुत ही Faster read और write करता है।
2. ये ज्यादा robust और reliable होता है traditional magnetic hard drives की तुलना में।
3. ये Highly portable होता है. इसलिए इसे आसानी से एक जगह से दूसरी जगह को ले जाया जा सकता है।

Disadvantages :
1. ये traditional hard drives के तुलना में ज्यादा expensive होता है।
2. इसमें Storage space भी traditional magnetic hard drives की तुलना में बहुत कम होती है।

3. Network Attached Storage (NAS)

अगर हम NAS की बात करें तो ये simply एक या एक से ज्यादा regular IDE or SATA hard drives का समाहार होता है जिसे की एक array storage enclosure में plug किया जाता है और उसे एक network Router or Hub के साथ जोड़ा जाता है एक Ethernet port के माध्यम से. कुछ NAS enclosures में ventilating fans होते हैं जो की सुरक्षा प्रदान करते हैं hard drives को overheating होने से।

Advantages :
1. ये बहुत ही अच्छा option है local backups के लिए ख़ास तोर से networks और small businesses के लिए।

2. चूँकि इसमें बहुत सारे hard drives को plugged in किया जा सकता है, इसलिए NAS बहुत ही बड़ी मात्रा में data को store कर सकती है।

3. इसे Redundancy (RAID) के साथ implement किया जाता है जिससे इसकी reliability, read और write performance बढ़ जाती है।चाहे आप कोई भी RAID level का इस्तमाल किये हों तब भी NAS function कर सकता है अगर एक hard drive RAID में fail हो जाये तब भी।इसके साथ दो hard drives को setup किया जा सकता है जिससे की वो single hard drive को read और write speed को दुगना कर सके।

4. यहाँ पर drive हर समय network के साथ connected रहता है और इसके साथ available भी रहता है जो की NAS को एक अच्छा option बनाता है automated scheduled backups को implement करने के लिए।

Disadvantages :
1. ये बहुत ही ज्यादा expensive होती है एक single External Hard Drives के मुकाबले।

2. ये बिल्कुम भी portable नहीं है जिससे की इसे लेने जाने में बहुत तकलीफ करनी पड़ती है. जिससे की इसे हमेशा खतरा रहता है बाड़, fire और चोरी से।

4. सीडी ड्राइव (cd drive in hindi)

सीडी को हम कॉम्पैक्ट डिस्क भी बोलते हैं। सीडी आयतकार डिस्क होती है जो की ऑप्टिकल किरणों, लेजर आदि की मदद से डाटा कों डालने के लिए इस्तेमाल करती हैं।

यह बहुत सस्ती होती है और इसमे आपको 700 एमबी की मेमोरी स्टोरेज मिलती है। सीडी को हम सीपीयू में लगे हुए सीडी ड्राइव में डालते हैं। यह पोरटेबल होती है इसकी मदद से हम सीडी को निकाल कर रख सकते हैं।

5. डीवीडी ड्राइव (dvd drive in hindi)

डीवीडी कों हम डिजिटल विडियो डिस्प्ले भी बोलते हैं। डीवीडी सीडी से काफी  गुना डाटा कों स्टोर कर सकता है। यह ज़्यादातर ज्यादा बड़ा डाटा कों स्टोर करने के काम में आता है। डीवीडी भी तीन तरह की आती है रीड ओन्ली मेमोरी, रेकोरडेबल, रीराइटेबल।

6.ब्लू रेय डिस्क (blue ray disk in hindi)

यह एक ऑप्टिकल स्टोरेज मीडिया है जो की अच्छी गुणवत्ता वाली विडियो और फ़ाइल आदि रखने के काम में आता है। यह छोटे दर्जे की ऑप्टिकल किरणें इस्तेमाल करता है। यह 128 जीबी तक के डाटा कों रख सकता है।

Massage (संदेश) : आशा है की "Storage Device क्या है और कितने प्रकार के है? What is Storage Device and What its TypesStorage Device क्या है और कितने प्रकार के है? What is Storage Device and What its Types" आपको पसंद आयी होगी। कृपया अपने बहुमूल्य सुझाव देकर हमें यह बताने का कष्ट करें कि Motivational Thoughts को और भी ज्यादा बेहतर कैसे बनाया जा सकता है? आपके सुझाव इस वेबसाईट को और भी अधिक उद्देश्यपूर्ण और सफल बनाने में सहायक होंगे। आप अपने सुझाव निचे कमेंट या हमें मेल कर सकते है!
Mail us : [email protected]

दोस्तों अगर आपको हमारा post पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ share करे और उनकी सहायता करे. आप हमसे Facebook Page से भी जुड़ सकते है Daily updates के लिए.

इसे भी पढ़े :

Leave a Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here