UPS क्या है और कैसे काम करता है? What is UPS and How its Works

UPS क्या है और कैसे काम करता है? What is UPS and How its Works

UPS क्या है और कैसे काम करता है?

हेलो दोस्तों आपका फिर से स्वागत है हमारे मोटिवेशनल वेबसाइटस पर आज हम बात करने वाले है की UPS क्या है और कैसे काम करता है? और हमने अगली बार बात की थी की Tally क्या है और कैसे सीखे और हमें उम्मीद है आपको हमारा ब्लॉग जरूर से पसंद आया होगा। तो चलिए हम शुरू करते है आज का हमारा टॉपिक जो की UPS क्या है और कैसे काम करता है?

बहुत कम लोग ही जानते होंगे की UPS क्या है और इसका Use कैसे और क्यों किया जाता है अगर आप इसके बारे में नही जानते तो कोई बात हम आपको इसके बारे में पूरी तरह से जानकारी देंगे इसके लिए हमारी पोस्ट को शुरू से अंत तक ज़रुर पढ़े। बहुत से लोग कंप्यूटर का Use करते है अगर आप कंप्यूटर का उपयोग करते है और आपको पता नही की UPS क्या है तो हम आपको बताते है की UPS एक बैकअप देने वाला सामान है जो कंप्यूटर या किसी भी Electronic सामान को बिजली के चले जाने पर भी चलाता है।

UPS बिजली चले जाने के बाद भी कंप्यूटर को 1 घंटे तक चलाने की क्षमता रखता है यह बैटरी से संचालित उपकरण है जिसके द्वारा कंप्यूटर में लगातार बिजली आपूर्ति बनी रहती है तो चलिए आगे जानते है की यह कैसे काम करता है।

यूपीएस क्या है (What is UPS in Hindi)

UPS का Full form क्या है? इसका full फॉर्म है Uninterrupted Power Supply. इसका ये मतलब है की हम UPS का इस्तमाल एक alternative power source के हिसाब से कर सकते हैं जो की निरंतर हमें interruption free power supply load को प्रदान कर सकती है।UPS हमेशा load को निरंतर power supply करती रहती है चाहे main supply OFF हो या फिर ON. UPS का main application है की वो Main power supply के absence में हमें power supply करता है जिससे हमारे device को कोई भी issue न हो।UPS की source of energy होती हैं batteries।किसी भी UPS की back up time (जिसका मतलब है की कितने समय तक UPS load को main power supply के absense में power प्रदान कर सकता है) उसमें इस्तमाल हुए batteries की type और quantity पर निर्भर करता है।

UPS की क्या जरुरत है

जैसे जैसे Electronics और Computer based devices में development हुई, वैसे वैसे sensitive electronics equipment जैसे की Personal Computers, Super Computers, Data Processors, Digital Controllers इत्यादि के इस्तेमाल में भी बढ़ोतरी हुई. ऐसे devices को interruption free power supply की जरूरत होती है, क्यूंकि ये devices data को handle करने के लिए Memories और Processors का इस्तमाल करते हैं. जैसे की हम जानते हैं की ये devices बहुत ही sensitive होते हैं corrupted power supply को लेकर।

उदहारण के लिए, अगर आप किसी personal computer को directly Turn Off कर देते हैं उसके power plug को निकाल कर, बिना उसे Shut Down किये तब ऐसा करने से आप data loss कर सकते हैं और कभी कभी तो आपके computer का operating system भी corrupt हो सकता है. इन्ही समस्यों को हल करने के लिए domestic तोर पे और Industrial तोर पे भी Device और Data Safety के लिए UPS का इस्तमाल किया जाता है।

Parts Of UPS in Hindi

मुख्य रूप से UPS में निम्नलिखित एलिमेंट होते हैं, जो ब्लॉक डाइग्राम में दिखाए गए हैं:

Rectifier (Battery Charger )

Battery

Inverter

Static Switch or Contactor

Rectifier:

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि rectifier का मुख्‍य फंक्‍शन AC को DC में कन्‍वर्ट करना हैं। इसे बैटरी चार्ज करने के लिए इस्‍तेमाल किया जाता हैं और यह इन्‍वर्टर सर्किट में फिड़ होता हैं। इसका आउटपूट, लोड की आवश्यकता पर निर्भर करता है।

Battery:

बैटरी एनर्जी स्‍टोर करती हैं, जिसका इस्‍तेमाल मुख्‍य पावर फेल होने पर भविष्‍य के उपयोग के लिए किया जाता हैं। यह बैटरी लीड एसिड या आवश्यकता के अनुसार किसी अन्य प्रकार की हो सकती है।

Inverter:

यह rectifier प्रोसेस के उलट करता हैं। यह लोड के उपयोग के लिए आनेवाले DC सप्‍लाई को AC में कन्‍वर्ट करता हैं। इन्‍वर्टर का आउटपूट साइनवेव होता हैं। यह D.C. को constant frequency और amplitude के A.C में कन्‍वर्ट करता हैं।

Static Switch or Transfer Switch:

पावर के सोर्स को ट्रांसफर करने के लिए एक स्‍टैटिक स्विच या ट्रांसफर स्विच की आवश्यकता होती है। इस ऑपरेशन का समय बहुत फास्‍ट होता हैं। आम तौर पर, 10 मिली सेकेंड के अंदर स्विचिंग करने वाले स्विच का उपयोग किया जाता है।

Types Of UPS In Hindi

  • Stand By UPS

Stand By UPS का इस्तेमाल अपने Personal कंप्यूटर में करते है Stand By UPS आपके कंप्यूटर को तब Supply देता है जब आपके कंप्यूटर का Main पॉवर बंद हो जाता है Stand By UPS सबसे पहले अपने आप को चार्ज करते है और पॉवर Off होने पर उस Consumed पॉवर को कंप्यूटर को Supply करता है।

  • Line Interactive UPS

यह Stand By UPS से पूरी तरह से अलग होता है लाइन Interactive UPS High और Low Voltage के समय Proper Voltage Provide करता है यह इन्वर्टर दो तरह से कार्य करता है जब Main पॉवर होता है तो यह बैटरी को चार्ज करता है और Voltage को Regulate करता है और जब Main पॉवर Off होता है तो Normal Inverter की तरह कार्य करता है।

  • Delta Conversion On-line

Double Conversion UPS में सुधार करके Delta Conversion UPS बनाया गया इस UPS में Double Conversion के Disadvantage को हटाया गया है Delta Conversion Technology Starting और Ending Point के बीच में Package Carry करके Energy को Save करता है यह Line UPS के Voltage को Proper Maintain करता है।

UPS के क्या लाभ हैं :

–  Maintenance of Power – UPS का सबसे पहला और ख़ास लाभ यही है कि ये आपके computer में प्रवाहित होने वाली power को नियंत्रित करता है।

–  Continuity of Operation – इसमें यह एक खास बात है की ये लगातार काम करता रहता है जिसका मतलब है की power के cut होने से भी ये निरंतर का करता रहता है और power backup प्रदान करता है।

–  Surge Protection – ये आपके कंप्यूटर को current fluctuation से होने वाली हर तरह की हानि से बचाता है।इसके लिए ये कंप्यूटर में आने जाने वाली विधुत को control करता है।

–  Line Interactive UPS – ये आपके कंप्यूटर को एक संतुलित (controlled) विधुत को प्रवाहित करता है और current के चले जाने के बाद भी ये आपको इतना समय देता हाई कि आप अपने कार्य को save कर सकें. जिससे data और device का loss नहीं होता है।

–  Emergency Power Source:- UPS emergency के समय में बहुत अच्छे Power Source की तरह कार्य करता है।जब Main Power off हो तो आप UPS/inverter के उपयोग से अपने घर के बिजली का इस्तमाल कर सकते है।इसलिए UPS एक बेहतरीन Emergency Power Source होता है|

–  NData Loss :-अचनाक कंप्यूटर Shut Down होने से कंप्यूटर के Data Loss होने के पुरे chances होते है | UPS के होने पर इस बात का डर दूर हो जाता है कि अगर Power चले गयी तो Data Loss हो जाएगा | UPS Light चले जाने के बाद आसानी से कुछ समय तक power supplyकरता है कि आप आसानी से अपने data को save कर सकते हैं और कंप्यूटर को Shut Down कर सके |

UPS के क्या हानि हैं :

–  Start Up Cost – अगर आप Standby UPS का इस्तेमाल करना चाहते हो तो ये आपको काफी महंगा पड़ता है।इसका मतलब है की शुरुवात में UPS की installation cost थोड़ी ज्यादा होती है।

–  Infrastructure – Infrastructure के हिसाब से UPS का इस्तेमाल होता है. इसलिए जितनी बड़ी infrastructure है उतनी ही बड़ी और ज्यादा battery का इस्तमाल होता है।

–  Maintenance Cost – UPS की बैटरी बहुत समय के लिए काम नही करती और कुछ समय के बाद ख़राब हो जाती है जिसके बाद आपको इसकी पुरानी बैटरी को पूरी तरह से बदल कर एक नयी बैटरी का इस्तेमाल करना होता है. इसके साथ समय समय पर इस battery को maintenance की भी जरुरत होती है।

Massage (संदेश) : आशा है की "UPS क्या है और कैसे काम करता है? What is UPS and How its Works" आपको पसंद आयी होगी। कृपया अपने बहुमूल्य सुझाव देकर हमें यह बताने का कष्ट करें कि Motivational Thoughts को और भी ज्यादा बेहतर कैसे बनाया जा सकता है? आपके सुझाव इस वेबसाईट को और भी अधिक उद्देश्यपूर्ण और सफल बनाने में सहायक होंगे। आप अपने सुझाव निचे कमेंट या हमें मेल कर सकते है!
Mail us : [email protected]

दोस्तों अगर आपको हमारा post पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ share करे और उनकी सहायता करे. आप हमसे Facebook Page से भी जुड़ सकते है Daily updates के लिए.

इसे भी पढ़े :

Leave a Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here