9 ताकतवर ऑन-पेज SEO टेक्निक्स | 9 Powerful On-Page SEO Techniques in Hindi

9 ताकतवर ऑन-पेज SEO टेक्निक्स | 9 Powerful On-Page SEO Techniques in Hindi

9 ताकतवर ऑन-पेज SEO टेक्निक्स (जिनका शायद आप उपयोग नहीं कर रहे)

नमस्कार दोस्तों! आज हम आपको ऐसी ९ ताकतवर SEO टेक्निक्स सिखाने वाले है जिनको अपना कर आप अपने ऑन-पेज SEO को और भी बेहतर बना सकते है।

आप इन बताई गयी गयी टेक्निक्स को अपनी वेबसाइट  के सभी पेजों पर लागू कर इसका प्रभाव स्वयं देख सकते है।

२००८ के बाद ऑन-पेज SEO में काफी बदलाव आया है। उस समय ऑन-पेज SEO केवल कीवर्ड्स पर केंद्रित हुआ करता था और डिजिटल मार्केटर्स केवल अच्छे कीवर्ड्स ढूंढने में लगे रहते थे जिससे उन्हें कीवर्ड डेंसिटी (Keyword Density) में फ़ायदा मिल सके।

पर आज, गूगल के हम्मिंगबर्ड (Hummingbird) और रैंकब्रेन (Rankbrain) अपडेट्स के पश्चात ऑन-पेज SEO उतना सरल नहीं रहा।

पर एक चीज बिल्कुल भी नहीं बदली है – वह है आपके पेज को ऑप्टिमाइज़ (optimize) करने का सही तरीका और गलत तरीका। और आज हम आपको ऑन-पेज SEO करने का सही तरीका बताने वाले है।

तो चलिए शुरुआत करते है –

९ ताकतवर ऑन-पेज SEO टेक्निक्स (9 Powerful On-Page SEO Techniques in Hindi)

1. छोटे यूआरएल (URL) का प्रयोग करें

बैकलिंको (Backlinko) द्वारा १० लाख वेब पेजों पर किए गए सर्वेक्षण के अनुसार छोटे यूआरएल वाले वेब पेज लम्बे यूआरएल की तुलना में कही बेहतर रैंक करते है।

उदाहरण के लिए आपने “How to drive a car easily” विषय पर ब्लॉग पोस्ट लिखा है तो अपने पेज का यूआरएल abc.com/how-to-drive-a-car-easily की बजाय abc.com/easy-car-driving रखें।

2. अपने टारगेट कीवर्ड को यूआरएल में डालें

आप जिस किसी कीवर्ड के लिए अपने पेज को ऑप्टिमाइज़ कर रहे है, उस कीवर्ड को अपने यूआरएल में जरूर रखें। ऊपर बताए गए उदाहरण के अनुसार अगर आप अपने पेज को “car driving” के लिए ऑप्टिमाइज़ कर रहे है तो आपके यूआरएल में यह कीवर्ड होना आवश्यक है।

3. LSI कीवर्ड्स का इस्तेमाल करें

LSI का अर्थ है Latent Semantic Indexing – LSI कीवर्ड्स के माध्यम से सर्च इंजिन्स को आपके कंटेंट को समझने में मदद मिलती है।

उदाहरण के लिए अगर आप भारतीय क्रिकेट के इतिहास पर ब्लॉग पोस्ट लिख रहे है तो सोचिए कितना अजीब होगा यदि आप उस पोस्ट में वर्ल्ड कप, कपिल देव, सचिन तेंदुलकर, महेंद्र सिंह धोनी, आईपीएल, इडन गार्डन, वानखेड़े जैसे शब्दों का प्रयोग ही ना करें।

LSI कीवर्ड्स के उपयोग से गूगल को आपके विषय के बारे में प्रासंगिक जानकारी मिलती है इसलिए इनका उपयोग जरूर करें।

LSI कीवर्ड्स कैसे ढूंढें?

अगर आप अपना टारगेट कीवर्ड गूगल में डाल कर पेज के अंत तक स्क्रोल करेंगे तो रिलेटेड सर्च (Related Searches) में जो शब्द आपको बोल्ड में दिख रहे है वे बेहतरीन LSI कीवर्ड्स का काम करेंगे। इस शब्दों का अपने कंटेंट में अलग अलग जगह पर उपयोग करे।

LSI कीवर्ड्स क्या है

4. लंबा कंटेंट लिखें

पूर्व में उल्लेख की गयी बैकलिंको के सर्वेक्षण के अनुसार औसतन १९०० से २००० शब्दों के ब्लॉग पोस्ट छोटे पोस्ट की तुलना में बेहतर रैंक करते है।

क्यों?

  • लम्बे कंटेंट में LSI कीवर्ड्स की संख्या अधिक होती है।
  • गूगल प्राकृतिक रूप से लम्बे कंटेंट को प्राथमिकता देता है।

ध्यान रखिए, गूगल अपने यूसर्स को किसी भी कीवर्ड हेतु सबसे बेहतरीन रिजल्ट दिखाना चाहता है, और अगर आपका पेज यूसर के प्रश्न का सबसे अच्छा एवं विस्तारित उत्तर देता है तो वह आपको पहले पेज पर प्राथमिकता देगा।

5. अपने टाइटल टैग तो क्लिक थ्रू रेट (Click-Through-Rate) के लिए ऑप्टिमाइज़ करें

आपको शायद ये तो पता ही होगा कि टारगेट कीवर्ड को यूआरएल में डालना चाहिए पर शायद ये पता नहीं होगा की उस कीवर्ड को अपने टाइटल टैग में भी डालना चाहिए।

क्यों?

क्योंकि यह एक बहुत बड़ा रैंकिंग घटक (factor) है। गूगल के एक इंजीनियर ने स्वयं इस बात की पुष्टि की है।

अगर यूसर्स सर्च करने के पश्चात आपके सर्च रिजल्ट पर क्लिक कर रहे है तो गूगल को ये सन्देश मिल रहा है कि उस कीवर्ड के लिए आपका पेज अन्य लिस्टिंग से बेहतर कंटेंट प्रदान कर रहा है।

इसलिए वह आपको रैंकिंग में प्राथमिकता प्रदान करेगा।

अच्छे क्लिक थ्रू हेतु टाइटल कैसे लिखे?

  • अपने टाइटल में हमेशा अंकों का प्रयोग करें – अंकों के उपयोग से आप अपनी लिस्टिंग की ओर पाठक का ध्यान प्रभावी रूप से आकर्षित कर सकते है। उदाहरण के लिए 
    अपनी बाइक के माइलेज बढ़ाने के ५ आसान तरीकें, ६ आसान स्टेप्स में अपना वजन घटाएं , किचन साफ़ करने हेतु ९ प्रभावी टिप्स इत्यादि।
    एक स्टडी के अनुसार अंको वाले शीर्षक, अन्य हैडलाइन की तुलना में ३६% ज्यादा क्लिक प्राप्त करते है।
     
  • टाइटल में ब्रैकेट का उपयोग करें – हबस्पॉट (Hubspot) द्वारा ३० लाख हैडलाइन के सर्वेक्षण से ज्ञात हुआ है की ब्रैकेट वाले हैडलाइन अन्य हैडलाइन की तुलना में ३८% अधिक क्लिक्स प्राप्त करते है। उदाहरण – बाइक के माइलेज बढ़ाने के ५ आसान तरीकें(जो काम करते है), ६ आसान स्टेप्स में अपना वजन घटाएं (४ हफ़्तों में), किचन साफ़ करने हेतु ९ प्रभावी टिप्स (प्रमाणित) इत्यादि।

6. बाह्य लिंक्स (External Links) का प्रयोग करें

हाल ही में की गयी एक दिलचस्प स्टडी में एक कंपनी ने एक कीवर्ड जिसके लिए एक भी सर्च नहीं था उसके लिए १० वेबसाइट बनाए।

उसमें से ५ में बाह्य लिंक्स थे और ५ में नहीं। परिणाम यह था कि वो ५ पेज जिसमें बाह्य लिंक्स थे उन्होंने अन्य ५ पेजों को रैंकिंग में काफी पीछे छोड़ दिया।

इससे ये स्पष्ट होता है कि गूगल बाह्य लिंक्स को एक महत्वपूर्ण रैंकिंग फैक्टर मानता है।

इसलिए अपने वेब पेज में कम से कम २ से ५ बाह्य लिंक्स जरूर डालें और आप देखेंगे कि आपको इससे रैंकिंग में जरूर मदद मिलेगी।

आतंरिक एवं बाह्य लिंक्स काफी महत्वपूर्ण है

7. आतंरिक लिंक्स (Internal Links) का प्रयोग करें

जब भी आप कोई नया पोस्ट पब्लिश करें उसमे अपने वर्त्तमान पेजों की २-५ लिंक जरूर डालें। पर ध्यान रहे, केवल उन वेब पेजेस की लिंक डालें जिनके लिए आपको गूगल में रैंक करना है।

आतंरिक लिंक्स केवल डालना है इसके लिए कतई ना डालें। आतंरिक लिंक्स का उपयोग समझदारी से करें।

8. अपनी साइट (Site Speed) स्पीड बढ़ाएं

अपने कुछ ही रैंकिंग फैक्टर्स को गूगल ने सार्वजनिक रूप से स्वीकार किया है। पेज स्पीड उन्ही फैक्टर्स में से एक है। अपनी वेबसाइट की लोडिंग स्पीड बढ़ा के आप रैंकिंग में भी बढ़त पा सकते है।

अपनी साइट की स्पीड कैसे बढ़ाएं

  • एक अच्छे वेब होस्टिंग कंपनी के साथ होस्ट करें। सस्ती कंपनी के साथ होस्ट करना आपको काफी महँगा पड़ सकता है।
  • CDN अथवा कंटेंट डिलीवरी नेटवर्क (Content Delivery Network) का उपयोग करें। CDN का यह फायदा है कि यह आपकी वेबसाइट को यूसर्स को उनके पास के क्षेत्र से प्रस्तुत करता है। इसकी वजह से आपकी वेबसाइट काफी तेजी से लोड होती है।

9. अपने कंटेंट में मल्टीमीडिया (Multimedia) का प्रयोग करें

अपने पोस्ट अथवा पेज में स्क्रीनशॉट, इमेज, इन्फोग्राफिक एवं वीडियो का प्रयोग करने से पाठक को आपके कंटेंट को पढ़ने में ज्यादा मजा आएगा।

यूसर एक्सपीरियंस गूगल के लिए काफी महत्वपूर्ण है। अगर आपके पेज का बाउंस रेट ज्यादा है मतलब यूसर्स आपके पेज पर ज्यादा समय नहीं बिता रहे है। ऐसा होने पर गूगल आपकी रैंकिंग गिरा देता है।

इसके विपरीत यदि यूअर्स आपके पेज पर ज्यादा समय व्यतीत कर रहे है तो गूगल आपको रैंकिंग में प्रमोट करेगा।

आशा है दोस्तों आपको इन ऑन-पेज SEO टिप्स से फ़ायदा होगा।

आपके कमैंट्स का स्वागत है। धन्यवाद!

Massage (संदेश) : आशा है की "9 ताकतवर ऑन-पेज SEO टेक्निक्स | 9 Powerful On-Page SEO Techniques in Hindi" आपको पसंद आयी होगी। कृपया अपने बहुमूल्य सुझाव देकर हमें यह बताने का कष्ट करें कि Motivational Thoughts को और भी ज्यादा बेहतर कैसे बनाया जा सकता है? आपके सुझाव इस वेबसाईट को और भी अधिक उद्देश्यपूर्ण और सफल बनाने में सहायक होंगे। आप अपने सुझाव निचे कमेंट या हमें मेल कर सकते है!
Mail us : [email protected]

दोस्तों अगर आपको हमारा post पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ share करे और उनकी सहायता करे. आप हमसे Facebook Page से भी जुड़ सकते है Daily updates के लिए.

इसे भी पढ़े :

Leave a Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here