यूँ ही नहीं होती हैं ज़िन्दगी में तब्दीलियाँ, रोशन होने के लिए मोम को भी पिघलना पड़ता हैं !!

यूँ ही नहीं होती हैं ज़िन्दगी में तब्दीलियाँ, रोशन होने के लिए मोम को भी पिघलना पड़ता हैं !!

यूँ ही नहीं होती हैं ज़िन्दगी में तब्दीलियाँ, रोशन होने के लिए मोम को भी पिघलना पड़ता हैं !!

एक बार की बात है राजा विक्रम के १०० पुत्र थे । और राजा साहब की उम्र ढलती जा रही थी और उन्हें उत्तराधिकारी का चुनाव करना था । अगले राजा की घोसणा करनी थी । वो चाहतें थे की ऐसा राजा हो जो प्रजां का ख्याल रखें । प्रजां भी खुश रहें, राज्य का विस्तार भी करें । कुल मिला करके एक अच्छा राजा वो चुनना चाह रहें थे । लेकिन १०० राजकुमार थें और राजा साहब सबसे बराबर प्यार करते थे । रानी भी बराबर प्यार करती थी । तो एक का चुनाव करें तो करें कैसे ?

राजा ने तरकीब सोची और उन्होंने कहाँ सारे राजकुमारों से की आपके लिए भोज रखा है आज शाम में, आप सभी को पधारना हैं । सारे राजकुमार पहुँचें राजमहल के सामने जो प्रांगढ़ था वहां पर भोज की त्यारियां की गई ।  छपन पकवान वाली थालियाँ मंगवाईं गई । सब राजकुमारों के बैठने की वयवस्था की गई थी । सब आकर के बैठें ।  राजा साहब उस भोज में नहीं पहुँचें झरोख़े से वो सारा नज़ारा देख रहें थें । तो जैसे ही भोज शुरू होने वाला था ।  राजा के सेवकों ने कुत्ते छोड़ दिए । शिकारी कुत्ते वहां पर छोड़ दिए । अब कुछ जो राजकुमार थें गुस्से में खड़े हो गए शिकार करने के लिए निकल पड़े उन शिकारी कुत्तों का । कुछ जो राजकुमार थें वो दर करके भाग गए । अफ़रा - तफ़री का माहौल और ये बात जो थी राज्य में फ़ैल गए की वहां पर भोजन हो ही नहीं पाया । अब प्रजां भी परेशान की राजा ने उत्तराधिकारी  का चुनाव किया होगा तो किया कैसे होगा । लेकिन राजा साहब ने अगले दिन ऐलान करवा दिया की आज जब सभा लगेगी तो आपके सामने राज्य का अगला राजा होगा । उत्तराधिकारी  का चुनाव कर लिया गया हैं । समझ में नहीं आ रहा था लोगों को क्या होने वाला हैं । सभा लगी, राजा साहब पहुँचें । राजा विक्रम ने सारे राजकुमारों को बुलाया मंत्री थे, प्रजां थी सारे नजारा वहां पर । उन्होंने एक सवाल सबसे पूछा । पहले राजकुमार से पूछा जो बड़े थे, जेष्ठ थें । क्या आपने भोजन किया ? तो उन्होंने कहाँ की कहाँ करता महराज ! पिताजी आप तो जानते है की हमारे पहरेदार इतने निकम्मे हो चुकें हैं की उन्होंने शिकारी कुत्तों तक को नहीं रोक पाएं । हमे जाकर के शिकार करना पड़ा । तीन - चार को वहां पर मैंने मुठभेड़ किया, यही सारा कुछ बात हुआ । दूसरे राजकुमार से पूछा तो उन्होंने कहाँ की पिताजी मैं तो दर करके भाग गया था । मुझे दर लगता है तो मैं वहाँ रुका नहीं । ऐसे करके बारी - बारी से सबने घुमा फिरा के जबाब दिए । एक राजकुमार ने कहाँ की हाँ पिताजी ! मैंने भोजन किया । भोजन बड़ा स्वादिष्ट था । उस राजकुमार का नाम था शान्तनु । राजा साहब ने पूछा की शान्तनु सभा को बताओं की आपने भोजन किया तो किया कैसे ? शान्तनु ने बताया की निन्यानवें राजा की थाली वहाँ पर पकवानों से सजी हुई रखी थी । जैसे ही कोई शिकारी कुत्ता मेरी तरफ आता मैं थाली को आगे कर देता और खली कर देता । जो शिकारी कुत्ता था वो खाने में व्यस्त हो जाता और इस तरीके से मैंने अपना भोजन अच्छे तरीके से कर लिया । स्वादिष्ट भोजन था  । ये जबाब सुन करके सभा में तालियां बजने लगीं । गरगराहट हो गई तालियों की और राजा साहब ने ऐलान कर दिया की अगले राजा का नाम हैं - शान्तनु !

ये छोटी - सी कहानी हमे बताती हैं की ज़िन्दगी में हर किसी की समस्याएँ हैं और सफ़लताओं का रोना - रोना बंद कीजिए । मुसीबत के बारे में बात करना बंद कीजिए । उपाय के बारे में बात करना शुरू कीजिए । आपके आस - पास ही की कहीं उपाय हैं । अगर आप चाहें तो आसानी से मिल सकती हैं ।

Massage (संदेश) : आशा है की "यूँ ही नहीं होती हैं ज़िन्दगी में तब्दीलियाँ, रोशन होने के लिए मोम को भी पिघलना पड़ता हैं !!" आपको पसंद आयी होगी। कृपया अपने बहुमूल्य सुझाव देकर हमें यह बताने का कष्ट करें कि Motivational Thoughts को और भी ज्यादा बेहतर कैसे बनाया जा सकता है? आपके सुझाव इस वेबसाईट को और भी अधिक उद्देश्यपूर्ण और सफल बनाने में सहायक होंगे। आप अपने सुझाव निचे कमेंट या हमें मेल कर सकते है!
Mail us : [email protected]

दोस्तों अगर आपको हमारा post पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ share करे और उनकी सहायता करे. आप हमसे Facebook Page से भी जुड़ सकते है Daily updates के लिए.

इसे भी पढ़े :

Leave a Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here