Bridge क्या है और कैसे काम करता है?| What is Network Bridge and How its Work

Bridge क्या है और कैसे काम करता है?| What is Network Bridge and How its Work

Bridge क्या है और कैसे काम करता है?

हेलो दोस्तों आपका फिर से स्वागत है हमारे मोटिवेशनल वेबसाइटस पर आज हम बार करना वाले है नेटवर्क ब्रिज के बारे में।तो चलिए शुरू करते है-


ब्रिज क्या है?
Bridge  भी एक कंप्यूटर नेटवर्किंग डिवाइस हैं और यह The OSI L Model के Data Link Layer पर काम करता है | Bridge दो Network Segments  जो की Same Communications Protocol का Use करते है उनके बीच  पैकेट को सेंड करता है Bridge में दो पोर्ट होते है एक Incoming और दूसरा Outgoing  जिससे Network के दूसरे पार्ट को आपस में जोड़ा जाता  हैं | Bridge Data भेजने से पहले Destination Address को Check करता हैं | यदि Destination MAC Network के Network के दूसरे पार्ट में होता  तो Data को भेजता है | मतलब Bridge यह  Decide करना की Data Packets को Ethernet Segment की दूसरी Side मे Send करना है या नहीं। 

यह नेटवर्क ब्रिज काम कैसे करता है?

चलिए अब जानते हैं की ये network bridges कैसे काम करते हैं. Bridge devices inspect करती है incoming network traffic को और ये निर्धारित करती है की वो packets को आगे forward करें या उन्हें discard करें, ये निर्भर करता है उनकी destination के ऊपर. उदाहरण के लिए एक ईथरनेट ब्रिज,, पहले inspect करती है प्रत्येक incoming Ethernet frame को जिसमें source और destination MAC addresses भी शामिल हैं — कभी कभी frame size — जब वो process कर रहा होता है individual forwarding decisions को। 

ये network bridge कार्य करता है layer 2 में, जो की data link layer होता है OSI model की।ये connect करता है multiple network segments को इस layer में. Bridge केवल traffic को broadcast नहीं करता है एक network segment से दुसरे तक, बल्कि ये traffic को साथ में manage भी करता है। 

Bridges इस्तमाल करते हैं bridge table के frames को send करने के लिए across network segments में. ये bridge table initially empty होता है. ये filled होता है bridge के द्वारा, जैसे जैसे ये frames receive करने लगता है nodes(computers) से जो की attached होता है network segments से. Bridge table को forwarding database भी कहा जाता है। 

अगर address entry नहीं मिले उस table में, उस received frame के लिए, तब frame को broadcast किया जाता है bridge के सभी ports को; फिर destination network node respond करता है और फिर route create होता है. Generally बात करें तब अगर bridge receive करता है frame, network के node से, तब वो table को check करता है और खुद ही destination MAC address को ढूंड लेता है. वहीँ इसी MAC address के आधार पर bridge ये निर्धारित करता है की उसे frame को filter, flood या copy करना होगा corresponding network segment में। 

हब और ब्रिज के बीच महत्वपूर्ण अंतर

हब को विभिन्न नोड्स के बीच कनेक्शन प्रदान करने के लिए एक केंद्रीय उपकरण के रूप में उपयोग किया जाता है। इसके विपरीत, ब्रिज नेटवर्क में डेटा को फ़िल्टर करने और फॉरवर्ड करने के उद्देश्य से कार्य करता है।
हब दो प्रकार के होते हैं – एक्टिव और पैसिव। जबकि ब्रिज पारदर्शी, पारभासी और स्रोत मार्ग तीन प्रकार के होते हैं।
डेटा फ़िल्टर ब्रिज में किया जाता है, जबकि यह हब में नहीं किया जाता है।
हब कई पोर्ट का उपयोग करता है जबकि ब्रिज विशिष्ट डेटा के लिए एक इनकमिंग और आउटगोइंग पोर्ट को नियोजित करता है।

Massage (संदेश) : आशा है की "Bridge क्या है और कैसे काम करता है?| What is Network Bridge and How its Work" आपको पसंद आयी होगी। कृपया अपने बहुमूल्य सुझाव देकर हमें यह बताने का कष्ट करें कि Motivational Thoughts को और भी ज्यादा बेहतर कैसे बनाया जा सकता है? आपके सुझाव इस वेबसाईट को और भी अधिक उद्देश्यपूर्ण और सफल बनाने में सहायक होंगे। आप अपने सुझाव निचे कमेंट या हमें मेल कर सकते है!
Mail us : [email protected]

दोस्तों अगर आपको हमारा post पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ share करे और उनकी सहायता करे. आप हमसे Facebook Page से भी जुड़ सकते है Daily updates के लिए.

इसे भी पढ़े :

Leave a Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here