Biography of sachin tendulkar in hindi : सचिन तेंदुलकर की जीवनी : अचिवमेंट्स व अनमोल वचन

Biography of sachin tendulkar in hindi : सचिन तेंदुलकर की जीवनी : अचिवमेंट्स व अनमोल वचन

Biography of sachin tendulkar in hindi : सचिन तेंदुलकर की जीवनी : अचिवमेंट्स व अनमोल वचन

सचिन तेंदुलकर का जन्म 24 अप्रैल 1973 को दादर, मुंबई के निर्मल नर्सिंग होम में हुआ था। सचिन तेंदुलकर के पिता रमेश तेंदुलकर महाराष्ट्र के सबसे प्रसिद्ध उपन्यासकार थे और उनकी माँ रजनी एक बीमा एजेंट थीं। उनके पिता ने सचिन देव बर्मन के नाम पर उनका नाम सचिन रखा था, जोकि उनके पसंदीदा संगीत निर्देशक थे। सचिन अपने 4 भाई व बहन में सबसे छोटे हैं, उनके बड़े भाई नितिन व अजीत और उसके बाद उनकी बहन सविता हैं।

बचपन

सचिन ने अपने बचपन के कुछ साल बांदा ईस्ट के साहित्य सहवास सहकारी आवास सोसायटी में व्यतीत किए। सचिन वर्तमान की तुलना में अपने बचपन में बिल्कुल विपरीत थे, क्योंकि उन्हे स्कूल में लड़ाई करना या स्कूल में पहली बार आने वाले बच्चों का धमकाना पसंद था।

अपनी किशोरावस्था में सचिन जॉन मैकनेरो, जो अमेरिका के प्रमुख टेनिस खिलाड़ियों में से एक हैं, के बहुत बड़े प्रशंसक थे। अजीत ने सचिन के शरारती स्वभाव को बड़ी मुश्किल से छुड़ाया और उन्हें वर्ष 1984 में क्रिकेट के प्रति दिलचस्पी दिखाने पर जोर दिया। उन्होंने सचिन की रमाकांत आचरेकर से भेंट करवाई, जो अपने समय के सबसे प्रसिद्ध क्लब क्रिकेटर के साथ-साथ एक बेहतरीन कोच भी थे। रमाकांत आचरेकर दादर के शिवाजी पार्क में क्रिकेट का अभ्यास करवाते थे।

आचरेकर ने सचिन की प्रतिभा को देखा, जो उन्हें काफी पसंद आयी, उसके बाद उन्होंने सचिन से शारदाश्रम विद्यामंदिर (इंग्लिस) माध्यमिक स्कूल को छोड़कर, अपने स्कूल में प्रवेश लेने के लिए कहा, जो दादर में ही स्थित था। यह स्कूल स्थानीय क्रिकेट मंडली में शीर्ष पर था और उस समय, यहाँ से कई प्रसिद्ध क्रिकेटर उभरकर सामने आए थे। इससे पहले, सचिन ने बांद्रा ईस्ट के भारतीय एजुकेशन सोसाइटी के न्यू इंग्लिश स्कूल में अध्ययन किया था।

सचिन तेंदुलकर जीवन

नाम (Name) सचिन रमेश तेंदुलकर
निक नाम (Nick Name) क्रिकेट के भगवान , लिटिल मास्टर , मास्टर ब्लास्टर
कार्य (Profession) बैट्समेन
आयु (Age) ( 2018 ) 45 वर्ष 
राशी (Zodiac Sign) कुम्भ
नागरिकता (Nationality) भारतीय
होमटाउन (Home Town) मुंबई , महाराष्ट्र , इंडिया
स्कुल (School) इंडियन एजुकेशनसोसाइटी , न्यू इंग्लिश स्कूल बांद्रा (पूर्व) , मुम्बई शारदाश्रम विद्यामंदिर स्कूल दादर , मुंबई  
कॉलेज (College) खालसा कॉलेज मुंबई
धर्म (Religion) हिन्दू
समाज (Cast) ब्राह्मण
पता (Address) 19  – ए , पैरी क्रॉस रोड , बांद्रा (वेस्ट ) मुंबई
हॉबी (Hobbies) वाचेज , परफ्यूम , सीडी कलेक्ट करना ,  संगीत सुनना
शिक्षा (Education Qualification) ड्रॉपआउट
मेरीटियल स्टेटस Marital status) विवाहिक
शादी की तारीख (Marriage date) 24 मई 1995  
बेटिंग स्टाइल (Batting Style) राईट हैंडेड
बोलिंग स्टाइल (Bowling Style) राईट-आर्म लेग स्पिन , ऑफ स्पिन , मीडियम पेस

सचिन तेंदुलकर शिक्षा , जन्म स्थान एवं पारिवारिक जानकारी ( Education , Early Life , Birth and Family)

इनका जन्म मुंबई के दादर के निर्मल नर्सिंग होम में एक महाराष्ट्रियन ब्राह्मण परिवार में हुआ था. इनके पिता एक मराठी नावेल लेखक थे और इनकी माँ एक इन्शुरेंस कंपनी में कार्य करती थी . ये चार भाई बहन थे 3  भाई और 1 बहन , सचिन सबसे छोटे थे , इनके तीनो भाई बहन इनके पिता जी की पहली पत्नी के बच्चे थे .

सचिन तेंदुलकर पारिवारिक जानकारी संक्षिप्त में :

जन्म तारीख (DOB) 24 अप्रैल 1973
जन्म स्थान (Birth Place) मुंबई महाराष्ट्र
माता (Mother) रजनी तेदुलकर
पिता (Father) रमेश तेंदुलकर (मराठी नावेल लेखक)
भाई (Brother) अजित तेंदुलकर , नितिन तेंदुलकर
बहन (Sister) सविता तेंदुलकर
पत्नी (wife) अंजलि तेंदुलकर
पुत्र (Son) अर्जुन तेंदुलकर
पुत्री (Doughter) सारा तेंदुलकर

सचिन तेंदुलकर की शिक्षा (Education) :

सचिन पढाई में बहुत अच्छे नहीं थे ये मध्यम श्रेणी के विद्यार्थी थे. इनकी आरंभिक शिक्षा बांद्रा की इन्डियन एजुकेशन सोसाइटी की न्यू इंग्लिश स्कूल में हुई . फिर क्रिकेट के प्रति इनकी रूचि देख कर इनके क्रिकेट के प्रशिक्षक रमाकांत आचरेकर के कहने पर इन्हें मुंबई के दादर की  शारदाश्रम विद्या मंदिर में दाखिला दिलवाया गया . उच्च शिक्षा के लिए ये मुंबई के खालसा कॉलेज गए फिर इन्होने अपनी पढाई को बीच में ही विराम दिया और क्रिकेट को ही अपना मुकाम बनाया .

सचिन का क्रिकेट की दुनिया में आगमन  :

सचिन कहते है कि क्रिकेट उनका पहला प्यार है, वे इसे बहुत एन्जॉय करते है और इससे उन्हें  एक नई उर्जा प्राप्त होती है . सचिन को बचपन से क्रिकेट खेलने का शौक था इनका मन पढाई में नही लगता था , ये सारा दिन अपनी बिल्डिंग के सामने दोस्तों के साथ क्रिकेट खेलते थे.  शुरुआत में ये टेनिस बॉल से प्रेक्टिस करते थे , इनके बड़े भाई अजित तेंदुलकर ने इनका क्रिकेट के प्रति रुझान देखा और अपने पिताजी रमेश तेंदुलकर से चर्चा की. अजित ने कहा यदि हम सचिन को सही मार्गदर्शन करेंगे, तो यह क्रिकेट में कुछ अच्छा करने में सक्षम है. सचिन के पिताजी ने सचिन को बुलाया, तब वे केवल 12 वर्ष के थे और उन्होंने  सचिन के मन की बात जानने की कोशिश की और उन्हें अपने भविष्य के बारे में फैसला लेने को कहा. सचिन का क्रिकेट के प्रति प्रेम देख कर उन्हें क्रिकेट का प्रशिक्षण के लिए दाखिला दिलवाया और फिर सीजन बॉल से इनकी प्रेक्टिस शुरू हुई . इनके पहले गुरु थे रमाकांत आचरेकर, रमाकांत सर ने इनके हुनर को देख इन्हें शारदाश्रम विद्यामंदिर हाई स्कूल में जाने के लिए कहा, क्योकि इस स्कूल की क्रिकेट टीम बहुत अच्छी है और यहाँ से कई अच्छे खिलाडी निकले है .  आचरेकर सर इन्हें स्कूल के समय से अतिरिक्त सुबह और शाम को क्रिकेट की ट्रेनिंग देते थे . इनका कई टीमो में चयन हुआ.   

सचिन तेंदुलकर की लव लाइफ और मेरिज लाइफ ( Love Life And Marriage ) :

इनकी पत्नी का नाम अंजली तेंदुलकर है , अंजलि एक शिशु रोग विशेषज्ञ है और प्रसिद्ध उद्योगपति अशोक मेहता की बेटी है. सचिन का स्वाभाव कुछ शर्मीला सा है इसलिए इनकी प्रेम कहानी के बारे में इन्होने कुछ ज्यादा बातें  कभी भी मीडिया के सामने नही की . इसकी पहली मुलाकात मुंबई एअरपोर्ट पर हुई और फिर दोबारा इनकी मुलाकात एक मित्र के यहाँ हुई, जो कि इन दोनों को जानता था, तब इन दोनो की बातचीत शुरू हुई . अंजली एक मेडिकल की छात्रा है इन्हें क्रिकेट में कोई दिलचस्पी नही थी . ये नही जानती थी कि सचिन एक क्रिकेटर है . जब इनदोनो का मिलने जुलने का सिलसिला शुरू हुआ, तब अंजलि को क्रिकेट में रूचि जागने लगी . जब ये दोनों एक दुसरे से मिले तब अंजलि अपनी मेडिकल करियर में प्रेक्टिस कर रही थी और सचिन के क्रिकेट के सफ़र की शुरुआत हुई थी . सचिन ने अपनी एक पहचान बना ली थी और अब इन दोनों का मिलना इतना आसान नही था, क्योंकि ये जहाँ भी जाते थे सचिन के फेन इन्हें घेर लेते थे . एक बार जब इन दोनों ने कुछ दोस्तों के साथ  ” रोजा ” मूवी जाने का सोचा, लेकिन सिनेमा हॉल में अपने फैन्स के डर से सचिन ने नकली दाड़ी मुछ लगा कर थिएटर में गए पर इनके फेन इन्हें पहचान गए और इन्हें घेर लिया और ऑटोग्राफ लेने लगे .

अंजलि बताती है की जब सचिन इंटरनेशनल टूर पर होते थे, तब सचिन से बात करने के लिए और इंटरनेशनल फोन का बिल बचाने के लिए सचिन को लव लेटर लिखती थी.

इनका रिश्ता 5 साल तक रहा उसके बाद इन्होने शादी करने का फैसला कर लिया , इनकी शादी चौबीस मई उन्निसो पिंचायान्वे में हुई . शादी के 2 साल बाद 12 अक्टूबर 1997 को इनके घर में बेटी का जन्म हुआ, जिसका नाम इन्होने सारा तेंदुलकर रखा . 2 साल बाद इनके घर में बेटे का जन्म हुआ जिसका नाम अर्जुन रखा गया और इनका परिवार पूरा हुआ . बच्चो के बाद अंजलि को अपना करियर बीच में ही रोकना पढ़ा उन्होंने सारा ध्यान अपने बच्चो की परवरिश में लगाया . इन्होंने अपने एक इंटरव्यू में कहा है कि अपने करियर को छोड़ने का इन्हें कोई दुःख नही है ये अपने पति और बच्चो को समय देना ज्यादा पसंद करती है , और इन्होने एक आदर्श माँ और पत्नी का फर्ज निभाया है और सफल वैवाहिक जीवन की स्थापना की है .

सचिन तेंदुलकर के अफेयर (Affair Sachin Tendulkar):

सचिन एक सुलझे हुए इंसान है और वे अपने व्यक्तिगत जीवन को भी उजागर करना पसंद नही करते. इनका नाम आज तक केवल एक ही लड़की के साथ जुड़ा है वो है अंजलि तेंदुलकर इसके अलावा इनका नाम आजतक किसी और के साथ नही सुनाई दिया. ये वन वुमन मेन है इन्होने केवल और केवल अंजलि से प्यार किया और उन्ही से शादी भी की . इसके आलावा इनका अफेयर और किसी के साथ नही रहा .

लुक टेबल ( Look Table ):

सचिन क्रिकेट की दुनिया के चाहिते सितारे है और एक खिलाडी के लिए ये बहुत जरुरी होता  है कि वह शारीरिक रूप से फिट हो. इनकी फिट बॉडी के बारे में कुछ जानकारी टेबल में दी गई है .

लंबाई (Height) सेंटीमीटर मीटर में – 165 cm
मीटर में – 1.65 mफीट में – 5’ 5’’
वजन (Weight) किलोग्राम में – 62 के जी
पौंड में – 137 आई बी एस
शारीरिक बनावट (Figure) 39-30 -12
आँखों का रंग  (Eye  color) गहरा भूरा
बालो का रंग (Hair Color) काला

सचिन तेंदुलकर का करियर ( Career ):

  • सचिन का क्रिकेट करियर सभी मौजूदा और आने वालें खिलाडियों के लिए मार्गदर्शन है. इसके लिए उनके पिता , भाई और सबसे महत्वपूर्ण उनके कोच सर आचरेकर ने मुख्य भूमिका निभाई है . सचिन बहुत ही परिश्रमी है उन्होंने इस मुकाम को हासिल करने में अपनी जी जान लगा दी .
  • सन 1988 में इन्होंने राज्य स्तरीय मैच में मुंबई टीम से खेल कर अपने करियर का पहला शतक बनाया. इस मैच में इनका प्रदर्शन देख कर इनका चयन नेशनल लेवल पर हो गया . 11 महीने के बाद इंडिया पाकिस्तान के मैच में पहली बार इन्होंने इंडिया की तरफ से क्रिकेट खेला.
  • सचिन का फर्स्ट अंतरराष्ट्रीय मैच पाकिस्तान के साथ 16 वर्ष की उम्र में हुआ, तब इन्होने अपना जोरदार प्रदर्शन किया और इस मैच में इन्हें नाक पर चोट लगी और जोरदार खून निकलने लगा, लेकिन इन्होने हार नही मानी और अच्छा प्रदर्शन किया और पाकिस्तानी टीम के खिलाड़ियों के छक्के छुड़ा दिए .
  • 1990 में इन्होंने अपना पहला टेस्ट मैच खेला, जो कि इंडिया और इंग्लैंड के बीच था . और यहाँ इन्होंने शतक बनाकर कम उम्र में शतक बनाने का रिकॉर्ड बनाया.
  • इनका प्रदर्शन से सभी मोहित थे, इसलिए इन्हें 1996 के वर्ल्ड कप में टीम इंडिया का कप्तान बनाया गया . 1998 में इन्होने कप्तानी छोड़ दी पर 1999 में ये दोबारा कप्तान बनाए गए , लेकिन इनकी कप्तानी टीम को रास नही आई और इन्होने 25 में से केवल 4 ही टेस्ट मैच में विजय प्राप्त की, इसलिए इन्होने कप्तान का पद त्याग दिया और दोबारा फिर कभी कप्तान नही बनने का फैसला लिया .
  • सन 2001 में वनडे मैच में दस हजार रन बनाने वाले ये प्रथम क्रिकेटर बने. 2003 का समय इनका सुनहरा समय था इनके चाहने वाले बड़ते जा रहे थे . 2003 में सचिन 11 मैचो में 673 रन बनाए और टीम इंडिया को विजय के छोर तक ले गए और सभी के पसंदीदा खिलाडी बन गए .
  • वर्ल्डकप के फाइनल में इंडिया और आस्ट्रेलिया के बीच मैच हुआ जिसमे इंडिया की हार हुई, परंतु यहाँ सचिन को मेन ऑफ़ द मैच का ख़िताब मिला .
  • इसके बाद सचिन ने कई मैच में हिस्सा लिया और एक समय इन्होने बहुत बुरा समय भी देखा जब इनके उपर मैच हराने का आरोप लगने लगे, पर इन्होने किसी भी बात पर ध्यान ना देते हुए अपने खेल पर ध्यान दिया और आगे बड़ते गए और ऊचाईयो के शिखर को छू लिया .
  • 2007 में इन्होने टेस्ट मैच में ग्यारह हजार रन बनाने का रिकॉर्ड बनाया. इसके बाद साल 2011 के वर्ल्ड कप में ये फिर अपनी पूरी ताकत के साथ सामने आए इन्होने दोहरा शतक मारा और सीरिज में 482 रन बनाए .
  • दो हजार ग्यारह के वर्ल्ड कप फाइनल में इंडिया की जीत हुई. सचिन ने बचपन से जो सपना देखा वह साकार हुआ ये उनकी वर्ल्ड कप में पहली जीत थी .
  • अपने करियर के सारे वर्ल्ड कप मिला कर ये 2000 रन और 6 शतक मारने वाले प्रथम क्रिकेटर बने . ये रिकॉर्ड अभी तक कोई क्रिकेटर नहीं बना पाया है.   

सचिन तेंदुलकर का टेस्ट मैच रिकार्ड्स (Test Match Record) :

इन्होंने ने टोटल 200 टेस्ट मैच खेले है . जिसमे 51 शतक और 68 अर्धशतक बनाई है इनके टेस्ट मैच के प्रदर्शन का ब्यौरा निचे सूचि में दिया है.

बेटिंग बोलिंग
इनिंरन रिकॉर्डस  329 बेस्ट इनिंग्स 145
नॉट आउट 33 विकेट्स 46
फोर रन रिकॉर्ड 2058 इकोनोमिक रेट 3.53
सिक्स रन रिकॉर्ड 69 बाल्स 4240
सबसे ज्यादा रन 248    
औसत 53 .79    
स्कोरिंग रेट 54 . 08    
अर्धशतक 68    
शतक 51    

  सचिन ODI  मैच रिकार्ड्स (Sachin ODI Match Record) :

इन्होने 463 वन डे मैच में अपना प्रदर्शन किया है और 49 शतक और 96 अर्धशतक बनाई है. इनकें वनडे मैच का रिकॉर्ड निचे टेबल में दिया गया है .

बेटिंग बोलिंग
इनिंरन रिकॉर्डस  452 बेस्ट इनिंग्स 270
नॉट आउट 41 विकेट्स 154
फोर रन रिकॉर्ड 2016 इकोनोमिक रेट 5.1
सिक्स रन रिकॉर्ड 195 बाल्स 6850
सबसे ज्यादा रन 200    
औसत 44.83    
स्कोरिंग रेट 86.24    
अर्धशतक 96    
शतक 49    

  सचिन तेंदुलकर टी -20   मैच रिकार्ड्स (Sachin T-20 Match Record) :

इन्होंने केवल एक टी 20 मैच खेला है, इस मैच में इन्होंने 10 रन बनाए और 2 चौके मारे है. इनके टी 20 मैच के रिकॉर्ड की जानकारी निचे सूची में दी गई है .

बेटिंग बोलिंग
इनिंरन रिकॉर्डस  1 बेस्ट इनिंग्स 1
नॉट आउट   विकेट्स 1
फोर रन रिकॉर्ड 2 इकोनोमिक रेट 4.8
सिक्स रन रिकॉर्ड   बाल्स 15
सबसे ज्यादा रन 10    
औसत 10    
स्कोरिंग रेट 83.33    
अर्धशतक      
शतक      

  सचिन तेंदुलकर के आईपीएल मैच रिकार्ड्स (IPL Match Record) :

इन्होंने अपने करियर में आईपीएल के कुल 78 मैच खेले, जिसमे 295 चौके और 29 छक्के मारकर, एक शतक और 13 अर्धशतक बनाई .

बेटिंग बोलिंग
इनिंरन रिकॉर्डस  78 बेस्ट इनिंग्स 4
नॉट आउट 9 विकेट्स  
फोर रन रिकॉर्ड 295 इकोनोमिक रेट 9.67
सिक्स रन रिकॉर्ड 29 बाल्स 36
सबसे ज्यादा रन 100    
औसत 33.83    
स्कोरिंग रेट 119.82    
अर्धशतक 13    
शतक 1    

  सचिन का क्रिकेट से संन्यास :

इस महान खिलाड़ी ने आज तक जो कीर्तिमान हासिल किया है क्रिकेट की दुनिया में इसे कोई नही छू पाया है . जब सचिन ने क्रिकेट से संन्यास लेने का फैसला लिया, तो इनके चाहने वालो को बहुत बड़ा आहात लगा, इनके इस निर्णय का विरोध भी किया गया, लेकिन दिसंबर 2012 में इन्होने वनडे मैच से सन्यास लेने का फैसला लिया . जनवरी 2013 में इन्होंने क्रिकेट से रिटायरमेंट ले लिया, जब मीडिया द्वारा ये बात दूर  दूर फैली तो इनके इस फैसले से कई लोगो के दिल टूट गए और उन्हें इस फैसले से अपने पैर पीछे लेने की गुहार लगाई गई . लेकिन सचिन अपनी इस बात पर अटल रहे . इन्होने अपने पूरे करियर में 34000 रन बनाए, जिसमे 100 शतक भी शामिल की, आज तक इस रिकॉर्ड को कोई अन्य खिलाड़ी तोड़ नहीं पाया.  

सचिन तेंदुलकर इंटरनेशनल  डेब्यू  (International Debut of Sachin Tendulkar ) :

ओ डी आई (ODI) 18 दिसम्बर 1989
इंडिया और पाकिस्तान
गुजरांवाला
टेस्ट (Test) 15 नवम्बर 1989
इंडिया और पाकिस्तान
कराची
 टी–20 (T–20) 1 दिसम्बर 2006
इंडिया और साउथ अफ्रीका
जोंसबर्ग

  अवार्ड्स और अचीवमेंट ( Awards And Achivment ) :

इन्हें क्रिकेट की दुनिया में भगवान का दर्जा दिया गया है इन्होने कई रिकॉर्ड तोड़े है और नए बनाए है कई बार सेंचुरी और डबल सेंचुरी बनाई है और कई बार मेन ऑफ द मैच का खिताब जीते है . कई मैच में इन्होने अपने प्रदर्शन से भारत देश की विजय का झंडा फेहराया है. इन्हें कई अवार्डस, मेडल और ट्रॉफी से सम्मानित किया गया है भारत सरकार द्वारा भी इन्हें कई अवार्डो से पुरुस्कृत किया गया है. इन्हें प्राप्त कुछ महत्वपूर्ण  अवार्ड्स निचे सूची में दिए गए है.  

अवार्ड (Award) सन (Year)

सचिन ने जीता भारत रत्न

2013
पद्मश्री 1999
विसडन क्रिकेटर ऑफ़ द इयर 1997
राजीवगांधी खेलरत्न अवार्ड 1997
पद्म विभूषण 2008
सर गरफील्ड सोबर्स ट्राफी 2010
विसडन लीडिंग क्रिकेटर इन द वर्ल्ड  2010
महाराष्ट्र भूषण अवार्ड 2001
एल जी पीपल्स चॉइस अवार्ड 2010
आउटस्टैंडिंग अचीवमेंट इन स्पोर्ट्स 2010
अर्जुन अवार्ड 1994
आई सी सी ओ डी आई टीम ऑफ़ द इयर 2010 , 2007 , 2004
कैस्ट्रोल इंडियन क्रिकेटर ऑफ़ द इयर 2011
विसडन इंडिया आउटस्टैंडिंग अचीवमेंट अवार्ड 2012
वर्ल्ड टेस्ट XI 2011 , 2010 , 200
पीपल्स चॉइस अवार्ड 2010
बी सी सी आई क्रिकेटर ऑफ़ द इयर 2011

सचिन के बारे में कुछ बातें

  • सचिन के पिताजी संगीत के शौकीन थे इसलिए सचिन का नाम उन्होंने, उस समय के प्रसिध्द संगीतकार के नाम पर रखा, लेकिन सचिन का शौक केवल क्रिकेट में था, परंतु सचिन की बेटी सारा की आवाज बहुत अच्छी है और वे बहुत ही मधुर संगीत गाती है .
  • उन्होंने प्रसिद्धी हासिल करने के पहले का समय बांद्रा ईस्ट की साथिया सहवास को ऑपरेटिव हाउसिंग सोसाइटी में व्यतीत किया.
  • इन्हें बचपन में लॉग टेनिस का बहुत शौक था और जोन मकएनरोए को ये अपना आदर्श मानते है परंतु बाद में इन्होंने अपना करियर क्रिकेट में बनाया.
  • सचिन के क्रिकेट के गुरु थे “ रमाकांत आचरेकर ” इन्होने सचिन के साथ बहुत मेहनत की उन्हें एक कामयाब क्रिकेटर बनाया . उन्होंने अपने करियर के पुराने दिन याद करते हुए एक इंटरव्यू में बताया था, की उनके यह कोच उनकी क्रिकेट प्रेक्टिस के दौरान विकेट पर सिक्का रखा करते थे. यदि कोई इन्हें आउट कर देता था तो यह सिक्का उस खिलाड़ी को मिलता था वरना यह सिक्का इनको स्वयं को मिल जाता था . इनके पास ऐसे तेरह सिक्के मौजूद है, जो इनके जीवन का अमूल्य पुरुस्कार है.
  • शारदा श्रम स्कूल में विनोद कांबली सचिन घनिष्ठ मित्र थे , दोनों के क्रिकेट का सफ़र यही से शुरू हुआ था और इस बुलंदी तक पहुंचा.
  • इन्होंने प्रेम विवाह किया, इन्हें पहली नजर में ही प्यार हो गया था, इनकी वाइफ उनसे उम्र में 6 साल बड़ी है .
  • ये गणेश जी को अपना ईस्ट मानते है और वे हर साल अपने घर में गणपति स्थापना करते है और गणेश चतुर्थी के त्यौहार को वे साल का सबसे महत्वपूर्ण त्यौहार मानते है .
  • क्रिकेट के आलावा इनका मुंबई के कोलाबा में एक रेस्टारेंट भी है जिसका नाम तेदुल्कर्स रेस्टोरेंट है .
  • ये भारत की राज्यसभा के सदस्य भी है . ये पहले ऐसे खिलाडी है जिन्हें सबसे कम उम्र में “भारत रत्न” से नवाजा गया है .
  • ये द्विहस्ती है अर्थात ये अपने दाहिने हाथ से बेट और बॉल का इस्तमाल करते है और अपने बाहिने हाथ से लिखने का कार्य करते है .
  • 2003 में इन्होने एक फिल्म में मेहमान भूमिका निभाई थी इस फिल्म का नाम “स्टम्प मेन” था. 2008 में लंदन के मेडम तुस्सांड्स के संग्रहालय में इनका वेक्स का पुतला बनया गया .
  • सचिन बहुत ही दयालु है वे आनाथालय और मुंबई में चल रहे एनजीओ में प्रत्येक वर्ष 200 जरुरत मंद बच्चो की मदद करते है .
  • सचिन को स्मोकिंग करने की आदत नहीं है पर वे कभी कभी अल्कोहल का सेवन कर लेते है .
  • 2005–2006 में सचिन के कंधे और एल्बो में तकलीफ थी, उन्हें इतना दर्द था की वे दर्द से नींद में से जाग जाया करते थे, उन्हें कई दवाइयाँ लेनी पढ़ी . लेकिन फिर भी उन्होंने अपना खेल जारी रखा दर्द से उनसे खेलने की तरकीब में थोडा परिवर्तन तो आया, लेकिन उन्होंने फिर भी बेहतर प्रदर्शन किया और क्रिकेट के इतिहास में 39 सेंचुरी बनाई और 4 डबल सेंचुरी बनाई और 89 अर्द्ध शतक लगाईं.
  • ये सुनील गावस्कर के बहुत बड़े फेन है वे उन्हें अपना आदर्श मानते है . इंडिया और पाकिस्तान के पहले टेस्ट मैच में सुनील गावस्कर ने उन्हें पेड गिफ्ट किए जो उन्होंने मैच के दौरान पहने थे .
  • सचिन के जीवन पर आधारित एक फिल्म का निर्माण भी किया गया है इस फिम्ल का नाम है “ ए बिलीअन्स ड्रीम ” इस फिल्म के डायरेक्टर रिदम ट्रेक्टर है. इस मूवी में मुख्य भूमिका सचिन तेंदुलकर ने निभाई है.
  • सचिन के जीवन पर आधारित कई किताबे लिखी गई है .

सचिन तेंदुलकर की पसंद (Sachin Tendulkar Likes And Dislikes ):

कोई भी फेन हो वो अपने पसंदीदा किरदार के बारे में हर जानकरी प्राप्त करने के लिए उत्सुक रहते है . सचिन के कई चाहने वाले है जो इनकी सभी अच्छी बुरी बातो को जनाना चाहते है. इसलिए निचे टेबल में सचिन की कुछ मुख्य पसंद के बारे में जानकारी दी गई है .

खाना (Food) बॉम्बे डक , क्रैब मसाला , कीमा पराठा , लस्सी , चिंगरी प्रवन्स , मटन बिरयानी , मटन करी , बेगन भरता , सुशी
एक्टर (Actor) अमिताभ बच्चन, आमिर खान , नाना पाटेकर
एक्ट्रेस (Actress) माधुरी दीक्षित
फिल्म (Film) शोले , कमिंग टू अमेरिका
खेल (Sport) क्रिकेट , लौन टेनिस
रंग (Color) नीला
जगह (Destination) न्यू ज़ीलैंड , मसुरी
पसंदीदा संगीतकार (Musicians) सचिन देव बर्मन , बप्पी लहरी , दीरे स्ट्रेट्स
पसंदीदा गायक (Singar) किशोर कुमार , लता मंगेशकर
गाना (Song) बप्पी लहरी का “याद आ रहा है तेरा प्यार ”
रेस्टोरेंट (Restaurant) बुखारा , दिल्ली का मौर्य शेराटन
होटल (Hotel) सिडनी की पार्क रॉयल डार्लिंग
खिलाडी (Player) जोन मकएनरॉय और रॉजर फेडरर
परफ्यूम (Perfume) कमे डेस गर्कोंस
पसंदीदा क्रिकेट मैदान (favourite Cricket Ground) सिडनी
   

सचिन तेंदुलकर  से जुड़े कुछ विवाद (Controversy) :

  • सचिन तेंदुलकर एक बहुत ही अच्छे गेंदबाज थे, उनकी एक अलग गेंदबाजी का तरीका था वे एक प्रभावशाली गेंदबाज थे. सचिन पर 2001 में जब दक्षिण अफ्रीका और इंडिया के बीच मैच था तब क्रिकेटर सौरभ गांगुली ने सचिन पर आरोप लगाया की वे बॉल टेपरिंग करते है. इस बात से सचिन को बहुत दुख हुआ और उन पर टेस्ट मैच के लिए प्रतिबंध लग गया . रेफरी को बड़ी हैरानी हुई , उस  समय माइक डेनिस रेफरी थे. बहुत विवाद हुआ और पुरे मामले की जाँच पड़ताल हुई पुराने फुटेज देखे गए  फिर आई सी सी ने पूरा मामला संभाला और सचिन बेगुनाह साबित हुए .  
  • 2002 में 29 टेस्ट सेंचुरी पूर्ण करने की खुशी में सर डॉन ब्रेडमेन ने सचिन को फरारी 360 स्पोर्ट्स कार गिफ्ट की थी. इनपर आरोप था की इन्होने 1 करोड़ से ज्यादा की इम्पोर्ट ड्यूटी को रिश्वत दे कर माफ़ कराया था. इसके लिए  कोर्ट में केस भी चला और बाद में ये राशी इन्हें चुकानी पढ़ी .
  • इनकें बर्थडे पर उनके खास दोस्तों और रिश्तेदारों ने एक पार्टी प्लान की इस बर्थडे पार्टी में केक पर तिरंगे का डिजाईन था. 2010 में जब इन्होंने केक काटा तो उन पर भारतीय राष्ट्रीय धव्ज का अपमान करने का आरोप लगा .
  • सचिन को अपने घर में जाने का परमिट नहीं था और ना ही अधिभोग प्रमाण पत्र था, इसके लिए बी एम सी ने उन पर जुर्माना लगाया सचिन को यह जुर्माना चुकाना पढ़ा और मामला ख़त्म हुआ.

इन्हें इनके चाहने वालो ने कई नाम दिए है जैसे लिटिल मास्टर , मास्टर ब्लास्टर , क्रिकेट का बादशाह आदि . सचिन तेंदुलकर ने भले ही क्रिकेट से रिटायरमेंट ले लिया हो, लेकिन आज भी उन्हें लोग बहुत प्रेम करते है और उनके खेल को याद करते है और उनके खेल की चर्चा करते है. इनके द्वारा कई रिकॉर्ड को तोडा गया है और कई नए रिकॉर्ड बनाए गए है इनकी बराबरी आज तक कोई क्रिकेटर नही कर पाया है. ऐसे भारत रत्न पर सभी को बहुत गर्व है इन्होने देश को गौरवान्वित किया है कई मैच में भारत को विजयी घोषित किया है.

सचिन तेंदुलकर लेटेस्ट न्यूज़ -कोविड-19 पॉजिटिव

वर्ष 2021 मार्च में सचिन तेंदुलकर कोविड-19 से पॉजिटिव डिक्लेअर किए गए उन्होंने स्वयं इस बात की पुष्टि अपने ट्विटर अकाउंट से की। सचिन के अनुसार उन्हें कोविड-19 से संबंधित कुछ लक्षण अपने आप में महसूस हो रहे थे डॉक्टर से बातचीत के बाद पुष्टि करने के बाद उन्होंने सोशल मीडिया के जरिए अपने फैंस और मीडिया को इस बात की जानकारी दी सचिन ने यह बताया कि डॉक्टर के द्वारा बताए गए सारे निर्देशों का पालन कर रहे हैं उनके परिवार के बाकी सभी सदस्य कोविड-19 नेगेटिव पाए गए हैं इसीलिए वह स्वयं घर में आइसोलेटेड हैं और सारे सरकारी नियमों का पालन कर रहे हैं।

सचिन तेंदुलकर अनमोल वचन (Sachin Tendulkar Quotes)

  • मैं क्रिकेट में हार से नफ़रत करता हूँ, क्रिकेट मेरा पहला प्यार हैं , एक बार जब मैं मैदान में आता हूँ वो मेरे लिए एक पूरी तरह से अलग क्षेत्र हैं . और जीतने की भूख हमेशा वहाँ होती हैं .
  • मैं कभी नहीं सोचता कि मैं कहाँ जाऊंगा या मेने अपने आपको किसी भी लक्ष्य के लिए मजबूर नहीं किया हैं .
  • मैंने कभी अपने आपकी तुलना दूसरों से नहीं की हैं .
  • मैदान के अन्दर और बहार खुद को पैश करने का हर एक का अपनी अलग शैली एक अलग तरीका होता हैं .
  • आलोचकों ने मुझे मेरा क्रिकेट नहीं सिखाया हैं और वे नहीं जानते क्या मेरे शरीर और मेरे दिमाग में हैं .
  • मैं इसे बहुत साधारण लेता हूँ . बॉल को देखो और उसे पूरी योग्यता के साथ खेलो .
  • अलग अलग खिलाडी जितने के लिए अपना अपना योगदान देते हैं यही कारण हैं कि जीत हमेशा महान होती हैं .
  • मेरा दृष्टिकोण यह हैं कि जब में क्रिकेट खेल रहा हूँ मैं यह नहीं सोच सकता हैं कि यह खेल कम या ज्यादा महत्वपूर्ण हैं .
  • मैं बहुत दूर की नहीं सोचता हूँ मैं एक वक्त में एक ही चीज सोचता हूँ .
  • मैं एक खिलाडी हूँ राजनेतिज्ञ नहीं . मैं खिलाडी हूँ और वही रहूँगा . मैं क्रिकेट छोड़कर राजनीति में नहीं जा रहा हूँ क्रिकेट मेरी ज़िन्दगी हैं में उसी के साथ रहूँगा .

सचिन तेंदुलकर की बेटी सारा तेंदुलकर के बारे में दिलचस्प बातें क्या है?

उन्होंने धीरूभाई इंटरनेशनल स्कूल से अपनी शिक्षा पूरी की है, सारा की लंबाई 5 फुट 4 इंच है। उन्हें किताबें पढ़ना और फिल्में देखना बेहद पसंद है। सारा तेंदुलकर का जन्म एक ब्राह्मण परिवार में हुआ है, 2020 में वह 22 वर्ष की है। उनके पिता सचिन तेंदुलकर और माता अंजली तेंदुलकर हैं।

सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली में कौन सबसे ज्यादा टैलेंटेड है?

विराट कोहली को खेलने का एक अच्छा समय मिला है? आज के दौर में वसीम अकरम, वकार यूनुस, ग्लेन जैसे गेंदबाजों की प्रतिभा नहीं देखी जाती है. आज के समय में हर किसी को आक्रामक पारी खेलने के लिए प्रेरित किया जाता है और एक हाईप्रोफाइल कोच ट्रेंड करते हैं जबकि सचिन की प्रतिभा एक गली क्रिकेटर के तौर पर थी।

विराट कोहली और सचिन तेंदुलकर में कौन बेहतर है?

दोनों ने काफी परिश्रम से यह मुकाम हासिल किया है। लेकिन सहनशीलता और विनम्रता की बात आती है तो सचिन तेंदुलकर का जवाब नहीं है। सीधे तौर पर कह सकते हैं कि विराट कोहली एक सुपरस्टार हैं तो सचिन भगवान हैं।

सचिन तेंदुलकर के जर्सी का नंबर क्या है?

उन्होंने भारतीय टीम के लिए अपनी एक अलग पहचान बनाई है, वह 10 नंबर का जर्सी पहनते हैं. इसके अलावा मुंबई इंडियंस के तरफ से आईपीएल में भी 10 नंबर जर्सी पहने देखा जाता था।

सचिन तेंदुलकर ने क्रिकेट करियर की शुरुआत कब की थी?

उन्होंने 18 दिसंबर 1989 को पहला एकदिवसीय मैच खेला था, जो गुर्जरवाला में पाकिस्तान के खिलाफ था. 5 नवंबर 1989 को पाकिस्तान के कराची में उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ पहला टेस्ट मैच खेला था. इसके अलावा 1 दिसंबर 2006 को जोहांसबर्ग में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहला T20 मैच खेला था.

क्या सचिन तेंदुलकर स्वार्थी स्वभाव के हैं?

क्रिकेट के भगवान को स्वार्थी कहना गलत होगा, क्योंकि लोग राहुल द्रविड़ के करियर को बर्बाद होने का जिम्मेदार सचिन तेंदुलकर को बताते हैं, लेकिन यह गलत है. सचिन तेंदुलकर एक नेक दिल इंसान है और हर साल 200 बच्चों को प्रतिभावान बनाने के लिए एक कार्यक्रम आयोजन करते हैं. खैर विराट कोहली भले ही सचिन के सारे रिकॉर्ड तोड़ दे पर उनकी जगह नहीं ले सकता है.

सचिन तेंदुलकर को किस बॉलर ने सबसे ज्यादा परेशान किया था?

ऑस्ट्रेलिया<

Massage (संदेश) : आशा है की "Biography of sachin tendulkar in hindi : सचिन तेंदुलकर की जीवनी : अचिवमेंट्स व अनमोल वचन" आपको पसंद आयी होगी। कृपया अपने बहुमूल्य सुझाव देकर हमें यह बताने का कष्ट करें कि Motivational Thoughts को और भी ज्यादा बेहतर कैसे बनाया जा सकता है? आपके सुझाव इस वेबसाईट को और भी अधिक उद्देश्यपूर्ण और सफल बनाने में सहायक होंगे। आप अपने सुझाव निचे कमेंट या हमें मेल कर सकते है!
Mail us : [email protected]

दोस्तों अगर आपको हमारा post पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ share करे और उनकी सहायता करे. आप हमसे Facebook Page से भी जुड़ सकते है Daily updates के लिए.

इसे भी पढ़े :

Leave a Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here