Flowchart क्या है और कैसे बनाएं? What is Flowchart and How to Use it

Flowchart क्या है और कैसे बनाएं? What is Flowchart and How to Use it

Flowchart क्या है और कैसे बनाएं?

नमस्कार दोस्तों! आपका फिर से स्वागत है हमारे मोटिवेशनल वेबसाइटस पर,आज हम बात करने वाले है की फ्लोचार्ट क्या है और इसको कैसे बनाते है और हमने अगली बार Backup क्या है और क्या है फायदे? और Java क्या है और कैसे सिखे? के बारे बात की थी की उम्मीद है आपको जरूर से पसंद आया होगा चलिए आज है फ्लोचार्ट और उसको बनाने के तरीके के बारे में बात करने वाले है तो चलए बिना देर किये शुरू करते है।

Advantage Of Flowchart In Hindi यह भी आप इस पोस्ट के माध्यम से जानेंगे। और हम आपको यह बिल्कुल सरल भाषा में समझाएँगे। आशा करते है की आपको हमारी सभी पोस्ट पसंद आ रही होगी। और इसी तरह आप आगे भी हमारे ब्लॉग पर आने वाली सारी पोस्ट पसंद करते रहे।

हमें किसी भी कार्य को करने के लिए कुछ Steps को Follow करना होता है। चाहे कोई सा भी काम हो उसे पूरा करने के लिए हमें Step By Step काम करना होता है। जिससे की हमें काम करने में आसानी होती है। और हमारा कार्य अच्छी तरह से पूरा होता है। ऐसे ही Flowchart में भी होता है।

इन Steps की प्रक्रिया को Computer की भाषा में हम Algorithm कहते है। इसका ज्यादातर उपयोग Companies में किया जाता है। Programs के लिए Algorithm लिखने के बाद हमें Flowchart बनाना होता है। Flowchart से ही हम समझ पाते है की Program में क्या करना है। और किस तरह से Program Flow करेगा।

फ्लोचार्ट क्या है?

फ्लो चार्ट किसी भी अल्गोरिथम का ग्राफिकल रीजेंटेशन (Graphical Representation) होता है किसी भी कंप्यूटर प्रोग्राम में , यानि की अल्गोरिथम में हम जो कुछ भी लिखते है उसे एक डायग्राम में दर्शाना या फिर शो (Show) करना ही फ्लो चार्ट कहलाता है तो इसके लिए कई सारे डायग्राम यूज़ किये जाते है जैसे की स्क्वायर(Square) , रेक्टेंगल (Rectangle) ,डायमंड( Diamond) , एरो(Arrow) इत्यादि जैसे सिंबल (Symbol) का यूज़ किया जाता है इसको इसलिए बनाया जाता है ताकि अल्गोरिथम को और अच्छे से समझा जा सके।

फ्लो चार्ट (Flowchart) में इन्ही सिंबल का यूज़ किया जाता है और सिंबल एक दुसरे से कनेक्टेड होकर ये दर्शाते है की प्रोग्राम कैसे कैसे फ्लो कर रहा है या फिर आसान भाषा में कहे तो कैसे ये काम कर रहा है ये सब बताता है तो इसलिए आपको फ्लो चार्ट में बेसिक सिंबल (Basic Symbol) के बारे में पता होना चाहिए की इन सिंबल का क्या क्या यूज़ है आइये जान लेते है।

Flowchart मे प्रयोग किये गये कुछ चिन्ह है (Flowchart Symbols)
Flowchart एक Graphical चित्र है।जो की एक Process के Steps को दर्शाता है।इसीलिए आपको ये जान लेना अवश्यक है की इन चिन्हों के मतलब क्या हैं।और कहाँ इनको सही तरह से Use करें।

Start/End

Flowchart को शुरू करने के लिए एवं खत्म करने के लिए इस चिन्ह का प्रयोग किया जाता है।शुरुआत करने के लिए start और खत्म करने के लिए stop/end शब्द का प्रयोग किया जाता है।

Flow Lines (Arrow)

Flowchart किस दिशा में या फिर किस क्रम मे जा रहा है, यह जानने के लिए हम इस arrow का प्रयोग करते है।जब हम एक उदाहरण लेंगे तो आप आसानी से समझ जायेंगे।

Input/Output

Input और output के लिए हम इस चिन्ह का प्रयोग करते है।program का जो output  हो ता है वहां हम इस चिन्ह का प्रयोग करके दर्शा ते है।जैसे हमें दो नंबर का जोड़ निकलना है तो सबसे पहले हमें दोनो Number की Input लेने की आवस्यकता पड़ती है।इसके लिए Input Symbol  जोड़ने के बाद जोड़ दिखाने के लिए Output चिन्ह को इस्तमाल किया जाता है।

Process

जो हम input करते हैं, वही डाटा को process लिए हम इस चिन्ह काप्रयोग करते है। इस चिन्ह का प्रयोग तब होता है जब कोई हिसाब करना हो मतलब जब कुछ Calculation करना हो तब. जैसे कोई नंबर का जोड़, घटा, गुण करना और बिभाजित करना तभी इस चिन्ह का इस्तमाल किया जाता है।

Decision (Dimond)

जब किसी condition को दिखाना होता है, तब हम इस चिन्ह का प्रयोग करते है. इसका उत्तर ‘सही ’और ‘गलत’ या फिर ‘0’ और ‘1’ के रूप मे आता है।जैसे कोई भी संख्या Positive है या Negetive है यह पता लगाने के लिए हमें दोनों Numbers Comparision करने की आवस्यकता है।EX- 4 > 0 (क्या 4 से बड़ा है ?) इसका जवाब “हाँ और ना” में से एक है. एसे में Dimond Symbol का इस्तमाल किया जाता है।

सभी चिन्हो का इस्तेमाल जानने के लिए हम एक उदाहरण लेंगे

Flowchart बनाने के नियम

Flowchart बनाने के लिए भी कुछ नियम होते है, जिन्हे प्रयोग कर के हम आसानी से flowchart बना सकते है एवं समझ ने मे भी हमे आसानी होगी. कुछ नियम हैं-

  • Flowchart बनाते समय जितने भी चिन्ह का प्रयोग करते है, सभी चिन्हो को arrow के द्वारा जोड़ा जाता है जिस से हमे पता चलता है कि flowchart कौन से दिशा मे जा रहा है।
  • सभी flowchart एक starting एवं ending point होता है।
  • जब हम flowchart मे कुछ condition का प्रयोग करते है,  तो उसका 2 exit point होता है। ऊपर की ओर, नीचे की ओर या फिर side  की ओर होता है, जिसका 2 output होता है- पहला सही ओर दूसरा गलत।
  • Subroutines के अपने खुद के Flowchart होते हैं।
  • हर एक Flowchart का End Symbol हना चाहिए।

फ्लोचार्ट के फायदे और नुकसान-

चलए अब हम इसके फायदे और नुकसान जान ले:-

फायदे-

  1. flowchart के जरि एसे हम programming को आसानी से समझ सकते है क्योंकि इसमे  चिन्ह का इस्तेमाल कर सकते है।
  2. flowchart के मदद से हम error  को जल्दी से जान सकते है और उसे सुधार भी सकते  है।
  3. flowchart के द्वारा हम किसी भी program  को अच्छे से रख सकते है ओर समझ सकते है।

नुकसान-

  1. flowchart जब ज्यादा ही बड़ा हो जाएगा ओर उसे बना ने मे यदि एक से ज्यादा page  लग जाए तो उसेस मझने मेमुस्किल होती है।
  2. flowchart बनाने के लिए हमे चिन्हो का इस्तेमाल करना पड़ता है, जिसके कारण हमारा समय ज्यादा नुकसा न होता है।
  3. हमे यदि flowchart मे कुछ बदलाव लाना हो तो हमे फिरसे पूरा flowchart बनाना पड़ता है, किसी भी flowchart के बीच मे हम बदलाव नही कर सकते।
  4. कुछ complex program भी होते है, उस program का Flowchart में बनाने के लिए हमे बहुत सारे arrow का प्रयोग करना पड़ता है,  जिसे समझने मे हमे परेशानी होती है।

Massage (संदेश) : आशा है की "Flowchart क्या है और कैसे बनाएं? What is Flowchart and How to Use it" आपको पसंद आयी होगी। कृपया अपने बहुमूल्य सुझाव देकर हमें यह बताने का कष्ट करें कि Motivational Thoughts को और भी ज्यादा बेहतर कैसे बनाया जा सकता है? आपके सुझाव इस वेबसाईट को और भी अधिक उद्देश्यपूर्ण और सफल बनाने में सहायक होंगे। आप अपने सुझाव निचे कमेंट या हमें मेल कर सकते है!
Mail us : [email protected]

दोस्तों अगर आपको हमारा post पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ share करे और उनकी सहायता करे. आप हमसे Facebook Page से भी जुड़ सकते है Daily updates के लिए.

इसे भी पढ़े :

Leave a Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here