Programming कैसे सीखे?

Programming कैसे सीखे?

Programming कैसे सीखे?

आखिर Programming कैसे सीखे? हम एक ऐसे समय में रह रहे हैं की जहाँ सभी चीज़ें Internet में मेह्जुद है. अक्सर लोगों के मन में ये सवाल जरुर आता है की कैसे लोग इतने बढ़िया बढ़िया Websites और blogs बना लेते हैं. उनके मन में भी ऐसे ही websites या blogs बनाने की इच्छा उत्पन्न होती है. लेकिन उन्हें ये नहीं पता होता है की इसे programming के माध्यम से किया जा सकता है. अब फिर सवाल उठता है की चलो मान लिया की programming से इसे किया जा सकता है लेकिन आखिर ये प्रोग्रामिंग कैसे करे? क्या कोई भी इन्सान programming कर सकता है या ये केवल technology जानकार के लिए उपयुक्त है? तब इसका जवाब है की Programming कोई भी सीख सकता है जिसे की इसमें रूचि है और हाँ यदि आप technology background से हों तब इसे सीखने में आपको आसानी होगी लेकिन मैंने ऐसा बिलकुल भी नहीं कहा की non-tech लोग इसे सीख नहीं सकते हैं.

अगर आप सच में interested हैं computer programs, mobile apps, websites, games या कोई दूसरा software बनाने में, तब आपको पहले programming के विषय में जानना होगा फिर ये सीखना होगा की कैसे programming किया जाये. एक बात समझ लीजिये की Programs को create किया जाता है programming language के माध्यम से. यह language उन programs को allow करते हैं किसी भी machine में run करने के लिए, वो चाहे आपका computer हो, या mobile phone, या फिर कोई दूसरा hardware.

इसलिए आज मैंने सोचा की क्यूँ न आप लोगों को कंप्यूटर प्रोग्रामिंग कैसे करें के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे आने वाले समय में आपको किसी दुसरे ये ये नहीं पूछना पड़ेगा की ये Programming कैसे करते हैं क्यूंकि चाहे आप कोई भी programming language का इस्तमाल करें सभी को सीखने का तरीका समान होता है. तो बिना देरी किये चलिए शुरू करते हैं और Programming Language कैसे सीखे के विषय में और जानकारी प्राप्त करते हैं.

प्रोग्रामिंग कैसे सीखे

यदि आपको सच में programming सीखना है तब आपको जरुर से निचे बताये गए steps को जरुर से पढना चाहिए. चलिए जानते है एक Language का चुनाव कैसे करे?

अपने Area Of Interest को निर्धारित करे

आप चाहें तो कोई भी programming language सीख सकते हैं लेकिन मेरे हिसाब से आपको ये तय करना चाहिए की उस programming language को सीख लेने के बाद आखिर आप क्या करना चाहते हैं. इससे आप ये निर्धारित कर पाएंगे की आपको आगे चलकर क्या करना है. आप चाहें तो system programming सीख सकते हैं या Web development आपकी जो इच्छा हो.

हमेशा शुरुवात करें एक “simpler” language से

आप चाहें तो कोई भी language का चुनाव करें, लेकिन आपके लिए पहला एक high-level या simple languange सही रहेगा, क्यूंकि beginners के लिए ये language सही हैं, चूँकि ये बहुत ही basic concepts सिखाते हैं और आपकी thought process को अच्छे से build कर सकते हैं.

1.  इस category में दो popular languages हैं Python और Ruby. ये दोनों ही object-oriented web application languages, जिनकी syntax readable होती हैं.

2. “Object-oriented” का मतलब होता है ऐसा language जो की concepts of “objects”, or collections of data, और उनके manipulation से सम्बंधित रखता हो. ये वही concept होता है जिसे की बहुत से advanced programming languages जैसे की C++, Java, Objective-C, और PHP में इस्तमाल किये जाते हैं.

कुछ Basic tutorials के विषय में पहले पढ़ें अलग अलग languages के

अगर आप आपभी तक भी ये तय नहीं सकें हैं की आपको कौन सा language सीखना चाहिए तब आपको अलग अलग languages के basic tutorials को पढ़ लेना चाहिए. Internet पर ऐसे बहुत से short tutorials मेह्जुद हैं.

  • Python – ये एक great starter language होता है जिसे की web applications और Games में इस्तमाल किया जाता है.
  • Java – इसे बहुत से प्रकार के programs, चाहे वो games हो या web applications, यहाँ तक की ATM software में भी इनका इस्तमाल किया जाता है.
  • HTML – कोई भी Web Developer के लिए ये एक essential starting place होता है.
  • C – एक सबसे older languages, C बहुत ही powerful tool होती है, और इसके अलावा ये basis है कई modern languages की जैसे की C++, C#, और Objective-C.

छोटे से शुरुवात करें

हमेशा पहले Languages की core concepts को समझने की कोशिश करे

चाहे वो कोई भी languages क्यूँ न हो सबकी कुछ core concepts होती है जिसे समझना बहुत ही जरुरी होता है. क्यूंकि programming languages की fundamental concepts से ही आपको उस language के ऊपर पकड़ मजबूत होगी.

जरुरत के सभी Softwares Install करे

बहुत से programming languages में compilers की जरुरत होती है, जो की ऐसे programs होते हैं जिन्हें की design ही किया गया है code को translate करने के लिए ऐसे language में जिसे machine समझ सके. दुसरे languages, जैसे की Python में, interpreter की जरुरत होती है programs को execute करने के लिए बिना ही compile किये.

कुछ languages में IDEs (Integrated Development Environment) की जरुरत होती है जिसमें की सभी चीज़ें रहती है जैसे की एक code editor, एक compiler, interpreter, और debugger. ये programmer को सभी necessary function एक ही जगह में करने में सुविधा प्रदान करती है.

अपना पहला Program Create करने की कोशिश करें

Focus करें एक concept एक समय में

किसी भी language में पहला programs होता है “Hello World” program. यह बहुत ही simple program होता है जो की display करता है text “Hello World” screen के ऊपर. ये program बहुत से नए programmers को basic program के syntax को कैसे create करें ये सिखाता है, साथ output को कैसे handle करना है ये भी सिखाता है.

Online Examples को deconstruct कर नए programs बनाना सीखें

Internet पर online करोड़ों की मात्रा में examples online में मेह्जुद हैं. Online में आपको सभी languages के examples मिल जायेंगे. इससे आप बहुत कुछ सीख सकते हैं और साथ में आप इन examples को तोड़ मरोड़कर check कर सकते हैं की वो run कर रहे हैं या नहीं. साथ में ऐसे करके आप नया और बेहतरीन programs भी बना सकते हैं.

Syntax को examine करें

किसी भी language बहुत ही important होते हैं. ये सभी के अलग अलग होते हैं और इसे केवल उस programming languages के साथ compatible compiler या interpreter ही समझ सकते हैं. प्रत्येक language में एक unique syntax का इस्तमाल हुआ होता है. Programming में अपनी पकड़ बनाने के लिए Syntax पर पकड़ बहुत जरुरी होता है.

Experiment करें बदलाव के साथ

आपके example programms में आप बदलाव लाकर उसके results को test कर सकते हैं. क्यूंकि ऐसे experiments से ही ये programming ज्यादा बेहतर रूप से समझ में आती है न की Theory के पढने से. ये जान लीजिये की Errors से ही बहुत से चीज़ों को समझ में आता है. शायद ही कोई ऐसा हो जो की एक ही बार में कोई programming language का master बन जाये. बस बार बार experiment करके ही आप इसमें mastery हासिल का सकते हैं.

Debugging करना शुरू करे

जब आप programming करते हैं, तब जायज सी बात है की उसमें bugs (गलती) होंगे. इसमें घबराने वाली बात कुछ भी नहीं है, programs में errors का आना बहुत ही common बात है लेकिन उससे भी महत्वपूर्ण बात ये हैं की आप उन bugs को कैसे ढूंडते हैं और कैसे ठीक करते हैं. इन errors या bugs को ठीक करना ही bugging कहलाता है.

जैसे जैसे आप programs के साथ experiment करने लगेंगे तब आपको basics bugs के विषय में मालूम पड़ जायेगा और आप bugs को solve करने में भी अवल हो जायेंगे. सब खेल practice करने का है.

Code में Comment करने की आदत डाल दें

प्राय सभी programming languages में एक “comment” function भी होता हिया जो की आपको allow करता है text include करने के लिए जो की interpreter या compiler के द्वारा process नहीं किये जाते हैं.

Comment लिखने से ये आपको एक short, लेकिन clear, अपने भाषा में आप ये जाहिर कर सकते हैं की ये part code का क्या करता है. ये न केवल आपको code को समझने में मदद करेगा लेकिन साथ में code के बड़े हो जाने के बाद भी इससे आप code को किसी दुसरे के साथ share भी कर सकते हैं जिससे उन्हें भी इसे समझने में आसानी होती है. इससे programs की logic को सही तरीके से समझा जा सकते हैं.

आपको Regularly Practice करना चाहिए

Daily Code करें

किसी भी programming language के ऊपर Mastery प्राप्त करना इतना आसान नहीं होता है. इसके लिए आपको बहुत time लग सकता है. चाहे वो कोई आसान सा ही language जैसे की Python क्यूँ न हो, इसमें आपको थोडा समय जरुर लग सकता है. Programming एक skill के तरह होता है, जितना आप उसका practice करेंगे उतना ही आप उसमें proficient बनेंगे. इसलिए कोशिश करें की दिन में 1 से 2 घंटों का समय जरुर से व्यतीत करें.

अपने programs के लिए goals set करे

ऐसे goals set करें जिससे की आप उन्हें complete कर सकें. यदि आप कोशिश करेंगे तब आप जरुर से उन problems को solve कर पाएंगे. इससे आपकी goals को पूर्ण करने की competitive feeling जागृत होगी जिससे आपको एक नया motivation प्राप्त होगा goals को complete करने के लिए.

दूसरों के साथ बात करें और दुसरे programs को पढ़ें

वैसे बहुत से programming communities हैं जो की specific languages या disciplines को dedicated हैं. यदि आप सच में programming सीखना चाहते हैं तब आपको ऐसे ही communities को Find करना पड़ेगा और उसमें participate करना होगा. इससे आपके learning को बहुत बढ़ावा मिल सकता है. दूसरों के साथ बातचीत कर उनके codes से आप बहुत कुछ नया सीख सकते हैं. जिससे आपकी concepts और भी clear हो जाएँगी.

कोशिश करें की programming forums और online communities को join करें. केवल question न पूछकर दुसरे के answers भी देने की कोशिश करें, इससे आपकी problem solving capacity बढ़ जाएगी.

एक बार आपकी experience level बढ़ जाये तब आप बहुत से competition में भाग ले सकते हैं जैसे hack-a-thon या programming jam में. इन events में आपको बहुत से अद्भुत लोगों से मिलने का अवसर प्राप्त होगा.

अपने आपको को Challenge करें और fun बजाये रखें

कोशिश करें की ऐसे चीज़ों को करना जिसे आप नहीं जानते हैं जिससे आपको बहुत कुछ नया सीखने को मिल सकता है. ऐसे चीज़ों को करने के लिए बहुत से तरीकों के विषय में खोजने की कोशिश करें जिससे आपको बहुत कुछ नया जानने को मिलेगा. साथ में ऐसा करने के लिए खुद को challenge करें और कोशिश करने की इस काम को करते वक़्त उसमें fun element जरुर रखें.

अपने Knowledge को Expand करे

कुछ नया training courses सीखना चाहिए

बहुत से universities, community colleges, और community centers offer करते हैं programming classes जिन्हें की आप चाहें तो सीख सकते हैं. इसमें join करने से आपको नए courses सीखने की सुविधा प्राप्त होगी.

नए Books को खरीदें या Library से लायें

Internet में और Offline दुकानों में बहुत से programming books उपलब्ध होते हैं. ऐसे में अगर आपको programming language सीखना है तब आपको इन books को खरीदना पड़ सकता है इससे आपको concept को समझने में आसानी होगी.

Math और logic सीखें

ज्यादातर programming में basic arithmetic की समझ रखना जरुरी है, क्यूंकि इससे advanced concepts को समझने में आसानी होती है. इससे आपको complex simulations और दुसरे algorithm-heavy programs को समझने में आसानी होती है. इसमें advanced mathematics की जरुरत नहीं होती है बल्कि basic maths की समझ होनी चाहिए, इसके अलावा logic की समझ भी बहुत जरुरी है क्यूंकि इससे complex problems को solve करने की उपाय उत्पन्न होती हैं. और साथ में आप इन्हें आसानी से solve कर सकते हैं.

अपने Skills को सठिक रूप से Apply करें

अपनी एक portfolio create करे

जैसे जैसे आप Programs create करें और अपनी knowledge को expand करें, ये sure करें की आपकी सभी best work को आप एक Portfolio में save करें. इस portfolio को आप अपने recruiters और interviewers को दिखा सकते हैं जिससे की उन्हें पता चल सके की आपको किन किन programming languages में महारत हासिल है. साथ में आप अपने projects को भी उस portfolio में mention कर सकते हैं.

आप कुछ freelance work भी कर सकते हैं

Internet पर एक बहुत ही बड़ा freelance market उपलब्ध है programmers के लिए, खासकर mobile app developers के लिए. आप चाहें तो एक छोटा freelance jobs से आरम्भ कर सकते हैं. इससे आपको ये पता चल जायेगा की commercial programming कैसे काम करता है. इससे आप लोगों के काम करने के साथ साथ अच्छा कमा भी सकते हैं.

अपने खुद के programs और Apps Develop करे

यदि आपको programming पता है तब आप चाहें तो कोई company में काम कर सकते हैं एक software developer या यदि आप अपना कुछ करना चाहते हैं तब आप programs और Apps भी develop कर सकते हैं. इससे आप अपने skills का पूर्ण इस्तमाल कर सकते हैं. इससे आप पूरा profit कमा सकते हैं. साथ में आप अपने products को खुद own करते हैं जिससे आप यदि उसे बेचना भी चाहें तो ऐसा कर सकते हैं. आप चाहें तो एक team बनाकर software company भी बना सकते हैं.

Massage (संदेश) : आशा है की "Programming कैसे सीखे?" आपको पसंद आयी होगी। कृपया अपने बहुमूल्य सुझाव देकर हमें यह बताने का कष्ट करें कि Motivational Thoughts को और भी ज्यादा बेहतर कैसे बनाया जा सकता है? आपके सुझाव इस वेबसाईट को और भी अधिक उद्देश्यपूर्ण और सफल बनाने में सहायक होंगे। आप अपने सुझाव निचे कमेंट या हमें मेल कर सकते है!
Mail us : [email protected]

दोस्तों अगर आपको हमारा post पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ share करे और उनकी सहायता करे. आप हमसे Facebook Page से भी जुड़ सकते है Daily updates के लिए.

इसे भी पढ़े :

Leave a Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here