हरियाली फाउंडेशन का कार्य आप की मदद | Help for Hariyali Foundation

हरियाली फाउंडेशन का कार्य आप की मदद | Help for Hariyali Foundation

हरियाली फाउंडेशन की जुबानी | Hariyali Foundation's Word

दोस्तों आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में इंसान इतना व्यस्त हो गया है, कि पैसा तो कमा रहा है, पर उसे खर्च करने के लिए आने वाला जो कल है, वह हमारे पास नहीं बचेगा! जिसका मुख्य कारण प्रदूषण है, यह प्रदूषण कम तब होगा जब अधिक से अधिक पेड़ पौधे हो बढ़ती आबादी के चलते हम जंगल तो नष्ट कर ही रहे है, आबादी बढ़ने से हम रोक नहीं सकते, इसलिए पेड़ पोधों को ही फिर से बढ़ाना होगा!

दोस्तों हमारी संस्था जिसका नाम हरियाली फाउंडेशन है, यह संस्था पर्यावरण को प्रदूषण मुक्त कराने के लिए काम कर रही है, जैसे की आप जानते है, कि हमारा पर्यावरण किस तरह प्रदूषित होता जा रहा है! इसमें कई प्रकार की जहरीली गैसें बढती जा रही है, जो की हमारी सेहत के लिए हानिकारक है, हम चाहकर भी इसे रोक नहीं पा रहे है, क्योंकि इसे बढ़ावा देने के लिए कही न कही हम ही जिम्मेदार है! हम अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए जंगल व पेड़-पौधों को काट रहे है!

हरियाली फाउंडेशन का उद्देश | Objective of Hariyali Foundation

अब हमें जरुरत है, की इस विषय को गंभीरता से लें ताकि हमारी बची हुई जिंदगी और आने वाली पीढ़ी निरोगी व् खुशहाल रहे, निरोगी व् खुशहाल रहने के लिए हमें अधिक से अधिक मात्रा में वृक्ष लगाने होंगे क्योंकि वृक्ष ही वातावरण को प्रदूषण मुक्त बना सकते है! दोस्तों प्राकृतिक तरीके से औसतन एक आदमी एक दिन में इतना आक्सीजन लेता है, जितने में तीन आक्सीजन के सिलेंडर भरे जा सकते है! एक आक्सीजन सिलेंडर की कीमत होती है, लगभग 700 रु. इस तरह हम देखे तो एक आदमी एक दिन में 2100/- रुपये की और एक साल में 766500/- और पूरे जीवन अगर आदमी की उम्र 65 साल हो तो लगभग 5 करोड़ रुपये की आक्सीजन लेता है, जो की पेड़ पौधों द्वारा हमें मुफ्त (फ्री) में मिलती है! और यदि आप चाहते है की फ्री में यह आक्सीजन हमें यूँ ही मिलती रहे तो हमें पेड़ पौधों को समाप्त नहीं बल्कि उनका संरक्षण करना होगा! बढ़ती आबादी के चलते हम जंगल तो नष्ट कर रहे है! आबादी बढ़ने से हम रोक नहीं सकते, इसलिए पेड़-पौधों को ही फिर से बढ़ाना होगा!

अतः हमारी संस्था हरियाली फाउंडेशन जो इस क्षेत्र में कार्य कर रही है, इसे आर्थिक सहायता देकर भी आप पर्यावरण को बेहतर बनाने में सहयोग कर सकते है, हमारी संस्था द्वारा समस्त शिक्षण संस्थानों, अस्पतालों, समस्त आश्रमों, सुलभ शौचालयों, औद्योगिक क्षेत्रों, समस्त धार्मिक स्थलों, पुलिस थाना, सहकारी भवनों एवं समस्त ग्राम पंचायतों आदि में पेड़-पौधे वितरण किये जाते है!

अगर आप पर्यावरण को बचाने में हमारी मदद करना चाहते है तो आप हमारे वेबसाइट पे जाकर डोनेट बटन पे क्लीक करके डोनेट कर सकते है या आप निचे जाकर डोनेट के लिंक पे क्लिक करके आप हमें डोनेट कर सकते है 

वेबसाइट विजिट करें

www.hariyalifoundation.com

आपको हमारा कार्य देखना है तो हमारे सोशल मीडिया अकाउंट को फालो करें 

www.facebook.com/hariyalifoundation
www.instagram.com/hariyalifoundations
www.youtube.com/c/HariyaliFoundation
http://twitter.com/hariyaliF

डोनेट

अगर आप को हरियाली फाउंडेशन का काम अच्छा लगता हैं तो आप नीचे की लिंक पे जाकर मिनिमम- 5 Rs.(One Tree) मैक्सिमम आप जितना चाहे मदद कर सकते हैं, आप की एक छोटी सी मदद समाज में एक वृक्ष का निर्माण कर सकती है-Thanks Hariyali Foundation
https://rzp.io/l/HariyaliFoundation

वृक्षारोपण के क्या फायदे हैं?

पेड़ लगाने के महत्व पर बार-बार जोर दिया गया है। इसका कारण यह है कि वे कई लाभ प्रदान करते हैं। पेड़ लगाने का एक मुख्य लाभ यह है कि वे हमें जीवन देने वाली ऑक्सीजन प्रदान करते हैं। ऑक्सीजन की उपस्थिति के बिना जीवित प्राणियों का अस्तित्व संभव नहीं है। पेड़ लगाना भी आवश्यक है क्योंकि उनमें हानिकारक गैसों को अवशोषित करने की शक्ति होती है। कार्बन मोनो-ऑक्साइड, सल्फर डाइऑक्साइड और अन्य हानिकारक गैसों और वाहनों और उद्योगों द्वारा उत्सर्जित धुएं के कारण बढ़ते प्रदूषण को पेड़ों की उपस्थिति के कारण काफी हद तक नियंत्रित और शुद्ध किया जाता है।

पेड़ पक्षियों और जानवरों को भी आश्रय प्रदान करते हैं। गर्म गर्मी के दिन, वे चिलचिलाती धूप से भी यात्रियों को राहत प्रदान करते हैं। पेड़ हमारे ग्रह को रहने लायक बनाते हैं। लेकिन भले ही पेड़ कई लाभ प्रदान करते हैं और हम उनके बिना अपने जीवन की कल्पना नहीं कर सकते, हम विभिन्न जरूरतों को पूरा करने के लिए तीव्र गति से उन्हें काट रहे हैं।

लकड़ी का उपयोग आवश्यकता के विभिन्न उत्पादों के साथ-साथ लक्जरी बनाने के लिए किया जाता है। यही कारण है कि प्रत्येक दिन कई पेड़ काटे जा रहे हैं। बढ़ती आबादी एक और कारण है कि कई पेड़ों को तेजी से काटा जा रहा है। जंगलों को औद्योगिक क्षेत्रों और आवासीय स्थानों में बदल दिया जा रहा है।

लोगों की मदद

हरियाली फाउंडेशन पर्यावरण एवं वातावरण हेतु हर वर्ग के लोगों के लिए कार्य करती है चाहे वो अमीर या फिर गरीब, क्योंकि हर एक व्यक्ति को शुद्ध आक्सीजन की आवश्यकता होती है इसी आवशयकता के चलते हरियाली फाउंडेशन पौधों एवं पेड़ों की मात्रा बढ़ाने के लिए कार्य कर रही है, जिससे हर व्यक्ति को शुद्ध आक्सीजन की प्राप्ति में मदद मिल सके, यह समिति गरीब और बेरोजगार लोगों को रोजगार की प्राप्ति भी कराती है, जिससे इन लोगों का पालन पोषण हो सके और यह लोग भी समाज में अपनी पहचान बना सके, और अपने बच्चों को पढ़ा लिखाकर देश को आगे बढ़ा सके|

पौधे प्रदान करना

हरियाली फाउंडेशन प्रदूषण से लड़ने हेतुवातावरण में पेड़ पौधों की संख्या बढ़ाने के लिए सार्वजनिक स्थानों में निशुल्क पौधा वितरण करती है, हरियाली फाउंडेशन किसानों को भी पौधे उपलब्ध कराती है, यह समिति फलदार पौधों का उपयोग करती है, जो आपके जीवन को हराभरा बनाने में मददगार होते है |

वृक्षारोपण हेतु प्रेरित करना

हरियाली फाउंडेशन जगह जगह जाकर लोगो को पेड़ पोधो के महत्त्व के बारे में जागरूक करती है, जो हमें तक़रीबन एक दिन में 2100 रुपये की आक्सीजन मुफ्त में प्रदान करते है, इनके और भी कई लाभ है, जैसे कि : प्रदूषण का स्तर काम करके शुद्ध आक्सीजन वातावरण में उत्सर्जित करते है, कई तरह की बिमारियों से हमें बचाते है, कई प्रकार की ओषधि हमें प्रदान करते है, हमें कई प्रकार के फूल प्रदान करते है, जंगली जानवरों को भोजन प्रदान करते है, प्राकृतिक तरीकों से वर्षा कराने में मददगार साबित होते है, जिस स्थान पर पेड़ पौधों की संख्या अधिक होती है, गर्मी के दिनों में वह स्थान तक़रीबन तक कम गर्म होता है, इस प्रकार की जानकारी देकर लोगों को वृक्षारोपण के लिए प्रेरित करते है |

हरियाली फाउंडेशन प्रमाणपत्र

हरियाली फाउंडेशन आपकी ख़ुशी के मौके को पर्यावरण से जोड़ने के प्रति एक प्रमाण पत्र जारी करती है, जो यह प्रमाणित करता है, की आप देश के पर्यावरण को लेकर सक्रीय है, मनुष्य चाहकर भी अपनी व्यस्तता के कारण इतना समय नहीं निकाल पाता की वह पौधा रोपण करे, और उसकी देखभाल करे, इसी के चलते हमारे देश का पर्यावरण नष्ट होता जा रहा है! पर्यावरण को संतुलित रखने के लिए हरियाली फाउंडेशन आपके साथ मिलकर आपकी ख़ुशी के मौके को पर्यावरण में पौधे के रूप में रोपती है,और उसकी सेवा करती है, जिससे आपकी खुशियों को बहुत ही लम्बी उम्र मिल सके, हरियाली फाउंडेशन फूलदार पोधो का उपयोग करती है, तथा आपके कुछ खास दिन जैसे:- जन्मदिन, शादी की सालगिरह, रिटायरमेंट, पास होने की ख़ुशी, प्रमोशन, पहली सेलेरी मिलने पर, नए वर्ष की ख़ुशी में, आपके नाम का पौधा रोपणकर प्रमाणपत्र देती है! हरियाली फाउंडेशन आपसे आग्रह करती है, आप भी आगे आकर इस मुहीम से जुड़े और अपने देश के पर्यावरण को संतुलित बनाने का प्रमाणपत्र प्राप्त करें, हरियाली फाउंडेशन इस कार्य (प्रमाणपत्र) की छोटी सी राशि 300/- आपसे लेती है, इस राशि के माध्यम से हरियाली फाउंडेशन इस मुहीम को और आगे बढाती है, और गरीब लोगों को रोजगार प्रदान करती है, जिससे पर्यावरण बेहतर बनता है, और गरीब लोगो को रोजगार भी मिलता है!

निम्नलिखित सभी वृक्ष वृक्षारोपण के लिए सर्वश्रेष्ठ हैं। आपसे जो वृक्ष लग सकें जरूर लगाएं।

क्यों कि-

वृक्ष ओषधि और आहार,

नहीं करते अपनों का संहार।

वृक्ष मेघों को पास बुलाते,

तपती धूप में सबके छाते।

बरगद, पीपल, कदम, बिल्व या बेल वृक्ष, गुलर, परिजात, हरीतकी, आंवला, विभितकी, अर्जुन, अमलताश, करील, मेहंदी, स्वर्णपत्र, शत पत्री,

आम, सेव, देवदार, बादाम, घृतकुमारी, अशोक, चन्दन, सिंदूर, सीताफल, अमरूद, गिलोय, केन्थ, मौलश्री, बकायन, शतावर, चितावर की बेल, आदि।

वृक्षारोपण के क्या लाभ हैं?

बिना वृक्ष के हमारी धरती पर जीवन की कल्पना करना मुश्किल ही नहीं ना मुमकिन हे।

वृक्षारोपण, हमारे लिए कितना उपयोगी हे, वृक्ष न होने से क्या नुकसान और वृक्ष के होने से हमारी ज़िंदगी में क्या फायदा हो सकता हे , इसके बारे में आज हम विस्तार से जानकारी लेंगे।तो देर किस बात की आईये शुरू करते हे।

वृक्ष हमे जीवन दायिनी प्राणवायु (Oxygen) प्रदान करते है। बिना Oxygen के जीवन टिक पाना असंभव हे। हम पानी और भोजन के बगैर कुछ दिनो तक ज़िंदा रह सकते हे, मगर बिना प्राणवायु यानि के Oxygen के बगैर कुछ पल में ही हमारी मृत्यु निश्च्चित हे।

दोस्तों , कुछ दशकों पहले तक मनुष्य के जीवन का आधार सिर्फ वृक्ष ही हुवा करते थे,भूतकाल में पेड़ से मनुष्य को भोजन तो प्राप्त होता ही था, साथ में वस्त्र, दवाईयां, घर, और अग्नि सभी जीवन जीने के लिए लगनेवाली वस्तुएं मनुष्य पेड़ से ही प्राप्त करता था।

वृक्षारोपण करने के उपाय, भूतकाल में वृक्ष की भूमिका कुछ ऐसी थी के फल ही भोजन था, पेड़ के पत्तो से आवास उनका रहने का घर या झोपड़ी तैयार करते थे। तथा उष्ण और खाना पकाने के लिए एक जरिया लकड़ी ही थी, प्राचीन काल से ही मनुष्य जाती जड़ी - बूटियों का इस्तमाल भी अच्छी तरह जानती है, और वे भी मुख्य स्त्रोत पेड़ से ही प्राप्त करते है। इसलिए भूतकाल के मनुष्य को वन मानव भी कहते हे।

नीम की पेड़ की छाल के क्या -क्या फायदे हैं?

नीम के पेड़ की छाल चमड़ी से संबंधित बीमारियों को ठीक करने में बहुत काम आती है।नीम के पेड़ की छाल को पीसकर उसका पेस्ट बनाकर दाद ,खाज, खुजली पर लगाने से इस समस्या से निजात पाया जा सकता है।

Massage (संदेश) : आशा है की "हरियाली फाउंडेशन का कार्य आप की मदद | Help for Hariyali Foundation" आपको पसंद आयी होगी। कृपया अपने बहुमूल्य सुझाव देकर हमें यह बताने का कष्ट करें कि Motivational Thoughts को और भी ज्यादा बेहतर कैसे बनाया जा सकता है? आपके सुझाव इस वेबसाईट को और भी अधिक उद्देश्यपूर्ण और सफल बनाने में सहायक होंगे। आप अपने सुझाव निचे कमेंट या हमें मेल कर सकते है!
Mail us : jivansutraa@gmail.com

दोस्तों अगर आपको हमारा post पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ share करे और उनकी सहायता करे. आप हमसे Facebook Page से भी जुड़ सकते है Daily updates के लिए.

इसे भी पढ़े :

Leave a Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here