लव मैरिज बेहतर है या अरेंज्ड मैरिज | Love Marriage vs Arrange Marriage In Hindi

लव मैरिज बेहतर है या अरेंज्ड मैरिज | Love Marriage vs Arrange Marriage In Hindi

लव मैरिज बेहतर है या अरेंज मैरिज | Love Marriage vs Arrange Marriage In Hindi

शादी का रिश्ता बहुत प्यारा और पवित्र होता है। चाहे वह लव मैरिज हो या अरेंज, दोनों में प्यार और विश्वास होना बेहद जरूरी है। अक्सर लोगों के मन में यह सवाल उठता है कि लव मैरिज और अरेंज मैरिज में से कौन सी ज्यादा अच्छी है। कुछ लोग यह धारणा बना लेते हैं कि लव मैरिज में व्यक्ति एक दूसरे के बारे में पहले से सब कुछ जानता है। ऐसे में आगे का जीवन बेहद बोरिंग हो जाता है। वहीं कुछ लोग यह भी धारणा बनाते हैं कि अरेंज मैरिज में एक दूसरे को नहीं जानते ऐसे में अगर भविष्य में उनके विचार नहीं मिले तो क्या होगा। इस कशमकश में लोग लव मैरिज और अरेंज मैरिज के बीच में अटक कर रह जाते हैं और परिवार के दबाव में आकर कोई भी कदम उठा लेते हैं। सबसे पहले पता होना जरूरी है कि लव मैरिज और अरेंज मैरिज में से कौन सा बेहतर है। आज हम आपको अपने लेख के माध्यम से बताएंगे कि लव और अरेंज मैरिज में क्या फर्क है। साथी ही दोनों में से कौन-सी मैरिज ज्यादा बेहतर है, यह भी जानेंगे

दोनो शादियों में फर्क क्या है?

लव और अरेंज मैरिज में से बढ़िया चुनने से पहले हम दोनों शादियों के बीच का फर्क समझ लेते हैं। पढ़ें नीचे

अरेंज मैरिज

अरेंज मैरज में लड़के और लड़की के परिवार एक दूसरे के लिए खुद जीवनसाथी का चुनाव करते हैं। इस तरह की शादियों में ज्यादातर लड़का-लड़की एक-दूसरे से अनजान होते हैं। शादी के बाद ही उनमें प्यार होता है और फिर जिंदगी भर के लिए वह एक.दूसरे के साथ खुशी-खुशी जिंदगी बिताते हैं। इसमें लड़का और लड़की दोनों के परिवार वालों के बीच का रिश्ता भी बहुत मजबूत हो जाता है। अरेंज मैरिज को लव मैरिज के मुकाबले ज्यादा सफल माना जाता है।

एक खराब रिलेशनशिप

अब आजकल के जमाने में अफेयर होना कोई अनोखी बात तो रही नहीं. लिहाजा अगर लड़की किसी लड़के का साथ रिलेशनशिप में है, और दोनों के बीच किसी भी वजह से ब्रेकअप होता है तो बहुत स्वाभाविक है कि लड़की सब छोड़कर शादी अपने माता-पिता की मर्जी से करती है. एक बार प्यार में धोखा खाकर वो किसी और पर भरोसा करने से डरती है, तब माता-पिता पर उसका भरोसा और मजबूत होता है. लड़की को लगता है कि वो अपने लिए अच्छा लड़का चुनने में असफल रही. लेकिन माता-पिता जो भी करेंगे सही करेंगे.

हमेशा मिलता है परिवार का साथ

अरेंज मैरिज का यह फायदा है कि शुरू से लेकर अंत तक दोनों पार्टनर को दोनों परिवारों का साथ मिलता रहता है। जिस कारण भविष्य में कोई भी ऊंच-नीच आने पर वह आपके साथ खड़े रहते हैं। परिवारों के होने से दोनों पार्टनर्स का कमिटमेंट देखने को मिलता है, लेकिन इसका नुकसान भी हो सकता है कि आपके रिश्ते में किसी एक या दोनों परिवार की तरफ से दखल दी जा सकती है।

फ्यूचर प्लानिंग आसान होती है

आप जब अरेंज मैरिज करते हो, तो घरवाले शुरुआत से ही फाइनेंशियल स्टेबिलिटी सुनिश्चित करते हैं, जिससे आपको अपनी फ्यूचर और फैमिली प्लानिंग करने में आसानी होती है। वह शुरू से ही घरवालों को साथ लेकर चलते हैं, जिस वजह से भविष्य में किसी भी तरह की आर्थिक तंगी आने पर मदद मिलने की संभावना होती है

धीरे-धीरे बढ़ता है प्यार

अरेंज मैरिज में लड़का-लड़की एक-दूसरे से बिल्कुल अनजान हो सकते हैं। इस कारण बातों व मुलाकातों का सिलसिला धीरे-धीरे बढ़ता है। यही वजह है कि सुसंगत विवाह में प्यार धीरे-धीरे बढ़ता है, इसकी शुरुआत अमूमन शादी के बाद ही होती है। समय के साथ परवान चढ़े प्यार के हमेशा बने रहने की ज्यादा संभावना होती है। इसलिए भी इस प्रकार की शादी को बेहतर माना जा सकता है।

शेयर करने से पहले सोचना पड़ता है

जब हम अरेंज मैरिज करते हैं, तो अधिकतर लोगों को अपने बारे में कुछ बताने या बोलने से पहले कई बार सोचना पड़ता है। दिमाग में आता है कि ना जाने सामने वाला व्यक्ति आपको जज न करने लगे या फिर परेशानी या बात समझने लायक इमोशंस हैं या नहीं। शादी के काफी समय बाद तक लोग एक-दूसरे को अपनी पुरानी जिंदगी के बारे में खुलकर बात नहीं कर सकते।

लव मैरिज

इस शादी में लड़का-लड़की एक-दूसरे को अच्छी तरह से जानते हैं और एक-दूसरे को पसंद करते हैं। कई बार ऐसा भी होता है कि परिवार वाले इस शादी से खुश नही होते। लड़की को नए और अजनबी परिवार के साथ रहने और समझने में दिक्कतें आने लगती हैं। इन शादी की खास बात यह होती है कि लड़का.लड़की में आपसी समझ मिलती है। दोनों एक-दूसरे को अच्छी तरह से जानते हैं लेकिन दोनों के परिवार वालों के बीच मेलजोल कम ही होता है। 

पहलीे नज़र में होने वाला आकर्षण

पहली नज़र के आकर्षण या मोह को प्रेम समझने की भूल अक्सर युवा कर बैठते हैं। यह आकर्षण आपके अंदर प्रेम कम, काम भावना को ज़्यादा बनाता है जबकि प्रेम व्यक्ति का चारित्रिक उत्थान करता है। शारीरिक आकर्षण कभी भी जीवन भर नहीं रह सकता। यानि कि जहां सिर्फ़ काम वासना ही हो, वहाँ प्रेम का ख़ास अस्तित्व नहीं होता। वासना की तृप्ति होने पर प्रेम स्वतः ही ख़त्म हो जाता है। इसीलिए आपके साथ यदि इस तरह का आकर्षण मात्र हो तो कोई भी अहम निर्णय लेने से पूर्व सोच समझ लें। 

पैसा या समृद्धि देखकर होने वाला आकर्षण

अक्सर ऐसा देखा जाता है कि युवक-युवतियाँ एक दूसरे के स्टेटस या पैसों की चमक देखकर उनकी तरफ आकर्षित होते चले जाते हैं। आज के ज़माने में पैसा बेशक़ ज़रूरी चीज़ है जिसके चलते आप अपने तमाम शौक़ पूरे करते हुए मज़े से लाइफ़ जीने की तमन्ना रख सकते हैं। मगर ज़रा सोचिये, कहीं आप किसी की अमीरी देखकर आकर्षित तो नहीं हो गए हैं। क्योंकि अगर आपका पार्टनर संस्कार से परे निकला तो आपका पूरा जीवन नरक बन सकता है। फ़िर बाक़ी लोगों का सपोर्ट मिलना भी मुमक़िन नहीं होगा।

क्या यही प्यार है

प्रेम विवाह में अक्सर एक गलती लोग कर बैठते हैं, जो शादी के बाद पता चलती है। कुछ लोग आकर्षण को प्यार समझ लेते हैं और बहुत जल्दी शादी का फैसला कर लेते हैं। यह गलत अनुमान शादी के बाद उनकी जिंदगी में कई परेशानियां और झगड़े ला सकता है। इसलिए, आपका परिपक्वता से निरीक्षण करना बहुत जरूरी है।

दूसरे जरूरी पहलुओं को न जानना

हमेशा बताया जाता है कि शादी सिर्फ दो लोगों का नहीं, बल्कि परिवारों का मिलन होता है, लेकिन लव मैरिज में पार्टनर के फैमिली बैकग्राउंड, वातावरण, आर्थिक स्थिति व सामाजिक स्थिति के बारे में आपको बहुत कम जानकारी हो सकती है, जो आगे चलकर आपके लिए परेशानी का कारण बन सकती है। यह समझने की गलती न करें कि यह बातें शादी में मायने नहीं रखती।

व्यक्ति की कोई आदत अच्छी लगना :

किसी एक बात अथवा ऊपरी किसी लक्षण अथवा कुछ बातों के आधार पर लगाव अथवा खिंचाव अथवा मोह को प्रेम मत कह देना। यह स्वभाविक है की हम किसी इन्सान से मिलते है और उसकी कोई आदत या गुण हमें पसंद आ जाता है.

सच्चे प्रेम का अहसास न होना :

सच्चे प्रेम की परख सम्भव है किन्तु उतनी भी आसान नहीं, सच्चा प्रेम करने वाला व्यक्ति आपके नपुंसक, बाँझ, असाध्यरोगी, निर्धन इत्यादि निकलने पर भी प्रेम के विषय में अप्रभावित ही रहेगा। उसे आपके बाहरी रंगरूप की चाह अथवा समाज तक का भय न होगा।

प्यार है सबका हल

देखिए जिस शादी में प्यार बरकरार रहता है, वह दिक्कतों व अड़चनों के बाद भी मजबूत और खुशहाल रहती है। इसलिए, इस नये रिश्ते में प्यार की कमी न होने दें। चाहे आप कितने भी व्यस्त क्यों न हों, लेकिन पूरे दिन में कम से कम एक बार अपने पार्टनर को स्पेशल फील करवाना न भूलें। एक रोमांटिक मैसेज या प्यार भरा गुड मॉर्निंग मैसेज आपका काम आसान कर सकता है।

धोखे को प्रेम न समझे :

जो व्यक्ति अपनी जन्मदात्री माँ, अपने पालक पिता के स्नेह को ठुकराकर आपके पास आने की बात करता है वह ‘प्रेम’ के अर्थ को भला कैसे समझ सकता है ? वह आपका क्या साथ निभायेगा ? ऐसा इन्सान जो अपने माँ – बाप का न हुआ आपका कैसे हो सकता है

लव मैरिज के फ़ायदे (Advantage Of Love Marriage in hindi)लव मैरिज के फ़ायदे (Advantage Of Love Marriage in hindi)

पसंदीदा हमसफ़र चुनने में स्वतंत्रता -

लव मैरिज करने का सबसे बड़ा फ़ायदा यह होता है कि आपको अपने पसंद का जीवनसाथी चुनने की स्वतंत्रता होती है। इसमें आपके घरवालों की राय आवश्यक नहीं होती। आप अपने मन मुताबिक पार्टनर से शादी कर सकते हैं। अगर सब कुछ ठीक रहा तो घर-परिवार वालों के साथ मिलने की संभावनायें भी बढ़ जाती हैं। वैसे भी जब आप ख़ुद के लिए ख़ुद से साथी ढूंढते हैं तो ज़ाहिर है आप ख़ुश भी ज़्यादा रहेंगे। इसलिए पसंदीदा पार्टनर चुनने के लिए लव मैरिज एक बेहतर विकल्प होता है।

बेहतर समझदारी और तालमेल का होना - 

अपनी पसंद से शादी यानि कि लव मैरिज करने का फ़ायदा यह होता है कि उन कपल्स के बीच बेहतर समझ पहले से ही विकसित होती है जो शादीशुदा जीवन के लिए बहुत ज़रूरी होती है। लव मैरिज करने से पहले कपल्स एक दूसरे के साथ एक लम्बा समय बिता चुके होते हैं, एक दूसरे को अच्छे से जानने और समझने लगते हैं, अपने हित और अहित के बारे में बेहतर जानते हैं जो कि उनके इस रिश्ते के लिए आवश्यक भी है।

रिश्तों में विश्वास बनाए रखने में ज़्यादा बेहतर -

अपने पार्टनर पर विश्वास या भरोसा बन जाये तभी उसके साथ रिश्ता लम्बा चल सकता है। जब आप घर वालों की मर्ज़ी से शादी करते हैं तो अजनबी पार्टनर पर पूरा भरोसा करने में काफी वक़्त लग जाता है लेकिन वहीँ लव मैरिज के मामले में आप एक दूसरे पर पहले से ही भरोसा करते हैं। आप अपने पार्टनर के सकारात्मक और नकारात्मक पहलुओं को शादी से पहले से ही बेहतर जानते हैं। उसकी अच्छी के बीच और बुरी आदतों को अच्छी तरह जानते हैं। रिलेशनशिप जितनी पुरानी हो, भरोसा उतना ही ज़्यादा बढ़ता जाता है। इसलिए लव मैरिज करना फ़ायदेमंद होता है।

ताउम्र एक दूसरे के प्रति गहरा प्यार होना  -

लव मैरिज कपल्स के बीच सबसे ख़ास बात होती है उनके दिल में एक दूसरे के लिए अथाह प्रेम। जिस कारण ताउम्र उनका रिश्ता तरोताज़ा बना रहता है और प्यार कभी कम नहीं हो पाता। जब भी कभी रिश्तों में नीरसता आती है वे शादी से पहले एक दूसरे के साथ बिताए खूबसूरत पलों को याद करके फ़िर से प्यार में खो जाते हैं। एक दूसरे के प्रति इस तरह के अथाह प्रेम के कारण ही लव मैरिज की परिस्थितियाँ बनती हैं। यही लव मैरिज का फ़ायदा है। 

एक दूसरे की भावनाओं को अच्छी तरह समझना -

अरेंज मैरिज की तुलना में लव मैरिज की  सफल होने की ज्यादा संभावना होती है क्योंकि यह कपल्स के बीच प्यार और आकर्षण आपसी भावना से शुरू होता है। दोनों एक दूसरे को अच्छी तरह से जानते हैं, और इस तरह वे उनकी भावनाओं को समझ सकते हैं जिसे कोई और नहीं समझ सकता। वे एक दूसरे को बराबरी का दर्जा देते हैं और किसी भी तकलीफ़ या परेशानी में घर या बाहर एक दूसरे के साथ खड़े होते हैं। लव मैरिज का यह भी एक फ़ायदा है।

लव मैरिज के नुकसान (Disadvantage of Love Marriage in hindi)

घरवालों का सपोर्ट न मिलना - 

लव मैरीज करने का सबसे बड़ा नुक़सान यही होता है कि कपल्स को घरवालों का सपोर्ट नहीं  मिल पाता। कई बार तो उन्हें घर में रहने की इजाज़त भी नहीं मिलती। जिस कारण ऐसे कपल्स को परिवार से अलग रहकर अपने लिए सभी चीज़ों की व्यवस्था करनी पड़ जाती है। बिल्कुल अकेले बिना किसी सहारे के रहना होता है।

समाज से तिरस्कार किया जाना-

लव मैरिज करने वाले अधिकांश लोगों के रिश्ते, अपने रिश्तेदारों और समाज के साथ ख़राब हो जाते हैं। या यूँ कहिये कि ख़त्म हो जाते हैं। ये समाज आसानी से प्रेम विवाह को स्वीकार नहीं करता इस वजह से Love Marriage करने वाले couples को अपनों से ही अपने वर्चस्व के लिए लड़ना पड़ता है। फलस्वरूप अपनों से ही दूरियाँ बढ़ जाती है।

कई परिवारों की ज़िंदगी तबाह हो जाना-

प्रेम विवाह के बाद ख़ासकर लड़की के घर में उसके माँ-बाप और भाई बहनों की ज़िंदगी तबाही की ओर चल पड़ती है। समाज में बदनामी से परेशान होकर कभी कभी घर के सदस्य आत्महत्या जैसे कदम उठा लेते हैं। जिसके ज़िम्मेदार सिर्फ ये विवाहित जोड़े होते हैं।

धीरे धीरे प्यार की अहमियत कम हो जाना-

लव मैरिज करने के कुछ दिनों बाद अधिकतर कपल्स के बीच तालमेल का बिगड़ना आम बात है। शादी के बाद वे एक दूसरे के दोषों को हाईलाइट करते हुए लड़ते झगड़ते रहते हैं। एक दूसरे की कमियों पर दोषारोपण करने से उनके बीच प्यार ख़त्म होने लगता है।

इंडिया में कितने परसेंट लव मैरिज होती है?

इसलिए हिंदुस्तान में प्रेम विवाह का चलन कम ही शायद 5 प्रतिशत ही लव मैरिज होती होंगी और वो भी असफल। प्रेम विवाह नहीं करना चाहिए। इसलिए प्रेम विवाह करना भी हो तो लड़का लड़की अपने परिवार वालों से आदेश लेकर शादी करें।

भाग कर शादी कैसे करें

 

भाग कर शादी कैसे करे (bhag kar shadi kaise kare) यदि आप भाग कर शादी करना चाहते हैं तो आपके पास दो ऑप्शन है पहला ऑप्शन “कोर्ट मैरिज“ और दूसरा ऑप्शन “मंदिर में शादी करना“। यदि आप कोर्ट मैरिज करना चाहते हैं तो आपको कोर्ट मैरिज करने में 36 दिन का समय लगेगा।

लव मैरिज शादी क्या होती है?

इसमें लड़का अपनी पसंद की लड़की से शादी करता है जिससे वो पहले से ही प्यार करता है और लड़की भी उस लड़के से शादी करती है जिसे वो प्यार करती है. लव मैरिज में दोनों का एक दूसरे से शादी से पहले से प्यार करना जरूरी होता है तभी हम उसे लव मैरिज कह सकते हैं

कोर्ट मैरिज करने में कितना खर्च आता है?

Court Marriage Fees कोर्ट मैरिज करने की कोई फीस नहीं है। इसमें आपको सिर्फ स्टाम्प ड्यूटी के पैसे देने होते है। या तो यह ₹50 हो सकती है या फिर ₹100 भी हो सकती है। इस एक्ट के अनुसार भारत में रहने वाले स्त्री पुरुष वह चाहे किसी भी धर्म के हो विवाह कर सकते है।

1 दिन में कोर्ट मैरिज कैसे करें?

 

यदि आप हिंदू धर्म के हैं। तब आप मंदिर में विवाह कर कर और वहां से सर्टिफिकेट बनवा कर अपने रजिस्ट्रार ऑफिस में एक एप्लीकेशन मैरिज सर्टिफिकेट के लिए आवेदन डाल सकते हैं। और यह सर्टिफिकेट बनाने में सिर्फ 1 दिन का समय लगता है। इस प्रकार आप 1 दिन में विवाह कर सकते है।

ऑनलाइन कोर्ट मैरिज कैसे करें?

अब शादी का रजिस्ट्रेशन कराने के लिए दूल्हा व दुल्हन के पास आधार कार्ड होना जरूरी होगा। सर्टिफिकेट के लिए उन्हें कर एवं निबंधन विभाग की वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करना होगा। आधार कार्ड नंबर डालते ही दोनों को ओटीपी (वन टाइम पासवर्ड) मिल जाएगा। ओटीपी डालने के बाद वो अपना पूरा फार्म भर सकेंगे

कोर्ट मैरिज के लिए डॉक्यूमेंट क्या क्या चाहिए?

  • कोर्ट मैरिज के लिए क्या आवश्यक दस्तावेज हैं
  • 1- कम्पलीट आवेदन पत्र और अनिवार्य शुल्क.
  • 2- दूल्हा-दुल्हन के पासपोर्ट साइज के 4 फोटोग्राफ्स.
  • 3- पहचान प्रमाण पत्र.
  • 4- जन्म प्रमाण पत्र या मार्कशीट दसवीं कि.
  • 5- शपथपत्र जिससे ये सबूत हो कि दूल्हा दुल्हन में कोई भी किसी अवैध रिश्ते में नहीं है.

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल :

Q.लव मैरिज या अरेंज मैरिज में से सक्सेसफुल कौन-सी है?

यह समझ लीजिए कि कोई मैरिज वैज्ञानिक तौर पर सक्सेसफुल या अनसक्सेसफुल नहीं है। आप दोनों ही शादियों में प्यार, भरोसा और समर्थन दिखाकर उन्हें सफल बना सकते हैं।

Q.लव मैरिज अरेंज मैरिज से बेहतर क्यों है?

लव मैरिज को अरेंज मैरिज से बेहतर कुछ बिंदुओं पर माना जा सकता है, जिसमें फैसले लेने की आजादी, कपल्स के बीच प्यार होना और कंपैटिबिलिटी होना शामिल है।

Q.लव मैरिज अच्छी है या बुरी?

दोनों ही प्रकार की शादी अच्छी है। लव मैरिज का अच्छा या बुरा होना आपके कंफर्ट व व्यक्तिगत अनुभव पर निर्भर करता है।

Q.फायदा या नुकसान का विषय – पैसा, आर्थिक व अन्य सहारे

लव मैरिज में : लव मैरिज में कोई सहारा किसी से भी नहीं
अरैन्ज मैरिज में : अरैंज मैरिज में सबसे हर प्रकार का सहारा

Q.फायदा या नुकसान का विषय – रिश्ता टूटने पर

लव मैरिज में : लवमैरिज में कहीं कोई नहीं, बिल्कुल अकेले
अरैन्ज मैरिज में : अरैंज मैरिज में सब साथ

Q.फायदा या नुकसान का विषय – कोई निर्णय

लव मैरिज में : लवमैरिज में तात्कालिकताओं पर निर्भर अथवा साथ रहने से पनपे आकर्षण पर आधारित व अकेले का निर्णय तथा अदूरदर्शी
अरैन्ज मैरिज में : अरैन्ज मैरिज में दूर भविष्य हेतु सोचा-समझा निर्णय एवं बड़े-बुज़ुर्गों के दशको पुराने अनुभव से समृद्ध

Q.फायदा या नुकसान का विषय – जातिवाद

लव मैरिज में : लवमैरिज में शायद बेसअर
अरैन्ज मैरिज में : अरैन्ज मैरिज में हावी

Q.फायदा या नुकसान का विषय – वासना या रोमांस

लव मैरिज में : लवमैरिज में अधिक
अरैन्ज मैरिज में : अरैंज मैरिज में कम

Q.फायदा या नुकसान का विषय – रिश्ते का टिका रहना

लव मैरिज में : लव मैरिज में कम
अरैन्ज मैरिज में : अरैन्ज मैरिज में अधिक

Massage (संदेश) : आशा है की "लव मैरिज बेहतर है या अरेंज्ड मैरिज | Love Marriage vs Arrange Marriage In Hindi" आपको पसंद आयी होगी। कृपया अपने बहुमूल्य सुझाव देकर हमें यह बताने का कष्ट करें कि Motivational Thoughts को और भी ज्यादा बेहतर कैसे बनाया जा सकता है? आपके सुझाव इस वेबसाईट को और भी अधिक उद्देश्यपूर्ण और सफल बनाने में सहायक होंगे। आप अपने सुझाव निचे कमेंट या हमें मेल कर सकते है!
Mail us : jivansutraa@gmail.com

दोस्तों अगर आपको हमारा post पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ share करे और उनकी सहायता करे. आप हमसे Facebook Page से भी जुड़ सकते है Daily updates के लिए.

इसे भी पढ़े :

Leave a Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here