जानिए कौन है। ताज होटल का मालिक? | Taj Hotel ka Malik kaun hai ? | who is the owner of Taj Hotel ?

जानिए कौन है। ताज होटल का मालिक? | Taj Hotel ka Malik kaun hai ? | who is the owner of Taj Hotel ?

जानिए कौन है। ताज होटल का मालिक? | Taj Hotel ka Malik kaun hai ? | who is the owner of Taj Hotel ?

इस होटल का 1 महीने की कमाई कितनी है तथा इसमे एक वेटर की सैलरी कितनी है ताज होटल के बारे काफी अदभुत जानकारी जानेगें जो शायद आप नही जानते हो सपनो का शहर कहे जाने वाले मुम्बई में ऐसी कई सारे जगह है।

जो लोगो का होस उड़ा देती है लेकिन यहाँ बने ताज होटल को मुंबई का शान माना जाता है जहाँ केवल बड़े-बड़े सेलिब्रिटी ओर पैसे वाले लोग जा पाते है यहाँ आम इंसान को रहना और खाना किसी सपने से कम नही होगा। 

क्या कभी अपने ये सोचा है कि ताज होटल का मालिक कौन है तथा ताज होटल का निर्माण कब हुआ था ओर इसमे एक वेटर ओर दरवान को सैलरी कितनी मिलती है अगर ये सभी बातें जानना चाहते हैं तो आर्टीकल को अंत तक पढ़े क्योंकि इस पोस्ट में हम ताज होटल से जुड़ी सभी जानने वाले है।

ताज होटल का मालिक कौन है

Taj Hotel Ka Malik Koun Hai

ताज होटल किसका है

चलिये पहले हम ये जान लेते है कि आखिर ताज होटल का मालिक कौन है आपकी जानकरी के लिए बता दे कि ताज होटल को 16 दिसम्बर 1903 को आम जनता के लिए खोल दिया था ओर ये होटल 6 मंजिल का है इस होटल को टाटा ग्रुप द्वारा चलाया जाता है आपको बता दे कि ताज होटल का मालिकाना हक टाटा कंपनी का ग्रुप रखता है।

ताज होटल किसने बनवाया था

मुम्बई के गेटवे ऑफ इंडिया के पास मौजूद इस ताज महल पैलेस होटल का निर्माण जमशेद जी टाटा ने सन 1903 में करवाया था आपको बता दे कि यह 118 साल पुरानी होटल है अधिक्तर विदेशो से आये हुए लोग इसी होटल में रुकना पसंद करते है।

ताज होटल में वेटर की सैलरी कितनी है

इतना बड़ा ताज होटल में वेटर की सैलरी छोटी मोटी तो होगी नही हम आपकी जानकरी के लिए बता दे कि इस होटल में काम करने वाले सभी वेटर को 1 लाख 30 हजार से लेकर 1 लाख 50 हजार के बीच मिलती है इसकी बेसिक सैलरी 12 हजार से 13 हजार तक होती है ओर कुल वेतन 1 लाख 37 हजार से लेकर 1 लाख 51 हजार तक होता है जिसमे नगद बोनस, स्टॉक बोनस, कमिसन ओर टिप जैसी ओर भी चीजे सामिल है।

ताज होटल में खाना बनाने वाले कुक का सैलरी कितनी है

आपकी जानकरी के लिए बता दे यहाँ के कुक का सैलरी 80 हजार से लेकर 11 लाख तक हर महीने है क्योंकि जाहिर सी बात है उन्हें सभी चीजो को  ध्यान में रखते हुए खाना जो बनाना होता है ताकि यहां पर आने वाले लोगो को किसी भी प्रकार के शिकायत न हो।

ताज होटल में काम करने वाले दरवान की सैलरी कितनी है

तो हम आपको बता दे कि ये भी किसी से कम नही है जी हां यहाँ के केवल दरवान को 50 हजार से लेकर 1 लाख रुपये तक महीने में मिलती है।

ताज होटल में 1 प्लेट खाना की कीमत कितना है

अब बात आती है कि ताज होटल में खाना खाने में कितना पैसा लगता हैं तो आपको बता दे भारत के सबसे मागेंगे होटल यानी ताज होटल में शामियाना, सिलौज, स्टार बग्स ओर आर्बर हार जैसे ओर भी कोई खूबसूरत रेटोरेंट मौजूद है।

हम आपको बता इन सभी रेस्टोरेंट में सामियाना रेस्टोरेंट काफी मशहूर है जहाँ पर आप कई प्रकार के स्वादिस्ट भोजन का आनंद उठा सकते है जिसमें एक प्लेट शाकाहारी खाने का दाम 2000 रुपये रखा गया है और शामियाना रेस्टोरेंट में एक प्लेट आलू फराठे की कीमत 585 रुपये है।

इसी प्रकार से अन्य सभी चीजों का दाम है अगर आप इसके अलावा किसी अन्य कितने भी महंगे होटल में जाएंगे तो आपको एक प्लेट आलू फराठे की कीमत 250 से 300 रुपये के बीच मिल जाएगी इसी से आप अंदाजा लगा सकते है कि बाकी ओर भी चीजों का दम कितना होगा।

ताज होटल में 1 दिन का किराया कितना है

चलिये अब जानते हैं कि ताज होटल में 1 दिन रुकने का किराया कितना लगता है इस होटल में 560 कमरे ओर 40 स्वीट्स रूम वाले कमरे इस होटल में अगर आप एक साधारण कमरा लेते है तो आपको लगभग 15000 हजार तक रुपये देने होंगे ओर अगर आप अपने लिए स्वीट्स रूम बुक करते है।

तो इसकी कीमत लाखो में जाती है आपकी जानकरी के लिए बता दे कि इस होटल में टाटा लग्जरी स्वीट्स सबसे महंगा कमरा है जिसकी एक दिन की कीमत लगभग 10000 रुपये है आप अंदाजा लगा सकते है।

ताज होटल की कमाई कितनी है

तो हम आपको बता दे कि इस ताज होटल की 1 साल की कमाई लगभग 4171 करोड़ है आपको बता दे कि इसकी 100 से ज्यादा ब्रांचेज है जो विदेशो में भी काफी मशहूर है जहाँ भूटान, मैसिया, अमेरिका, नेपाल और साउथ अफ्रीका आदि जगहे मौजूद है।

ताज होटल में चाय कितने की है?

इस होटल को बनाने में करीब 127 मिलियन डॉलर लगे थे। यानिं 9,67,61,93,500 रुपए है। इस होटल में एक कप चाय का दाम है ₹400 रुपए

ताजमहल का असली मालिक कौन है?

ताजमहल पर मालिकाना हक जताते हुए उत्तर प्रदेश सुन्नी बफ्फ बोर्ड ने मंगलवार को सुप्रीमकोर्ट में दावा किया कि खुद मुगल बादशाह शाहजहां ने बोर्ड के पक्ष में इसका वफ्फनामा किया था, इस पर सुप्रीम कोर्ट ने सबूत के तौर पर शाहजहां के दस्तखत दिखाने को कहा है, साथ ही मामले में एक हफ्ते के अंदर दस्तावेज पेश करने को कहा है.

ताज होटल की कीमत कितनी है?

इसके निर्माण की कुल लागत £250,000 थी (आज के £127 मिलियन)।

मुंबई के ताज होटल की कहानी और इतिहास

 

मुंबई के ताज होटल की कहानी और इतिहास – Story and history of of Taj Hotel in hindi

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से मुंबई शहर के अपोलो बंदर कोलाबा जगह में स्थित ताज होटल के बारे में बताने जा रहे है जिसको मुंबई के सर का ताज भी कहा जाता है इस आर्टिकल में आज आप जानेंगे ताज होटल को बनाने के पीछे की कहानी तो चलिए अब आगे बढ़ते है और जानते है ताज होटल के बारे में ताज होटल का पूरा नाम ताज महल पैलेस होटल है यह एक पांच सितारा होटल है जो कि गेटवे ऑफ़ इंडिया के बिलकुल सामने है यह भारत का सबसे सूंदर होटल है इस होटल की इमारत 116 साल पुरानी है यह रिसॉर्ट्स एंड पैलेस का एक हिस्सा है जिसमे 560 कमरे एवं 44 सुइट्स हैं देश विदेश से आने वाले पर्यटक भी इस होटल को काफी पसंद करते है इस इमारत की खूबसूरती लोगो को बेहद आकर्षित करती है

 

आखिर में क्यों बनाया था ताज जाने इसके पीछे की कहानी – Finally, why did Taj know the story behind it

ताजमहल होटल के निर्माण के पीछे एक रोचक कहानी छुपी हुई है जो शयद आप नहीं जानते है अरब सागर की उची उची उठने वाली लेहरो से तर होने वाली ये ताज की ईमारत मुंबई के सर का ताज है ये ताज होटल देश की ट्रेडमार्क ईमारत है जिसके पन्ने से लेकर पढ़ने तक की कहानी भी मायानगरी की तरह पूरी हुई थी

एक देशभक्त के दिल पर लगी चोट, जिसे एक होटल में एंट्री नहीं मिलती और इस वजे से उसने ताज की नीव रखदी, जमशेदजी टाटा के दिल को लगी ठेस ने मुंबई को एक ऐसी ईमारत देदी जिसकी पहचान आज पुरे देश विदेश में है सिनेमा के जनक लुमायर भाइयो ने अपनी पहली फिल्म का शो मुंबई के आलीशान वॉटसन होटल में किया था इन शो को देखने के लिए मात्र ब्रिटिश लोग आये थे कियोंकि वॉटसन होटल के बहार एक तख्ती लगी रहती थी जिस पर लिखा रहता था भारतीय और कुत्ते होटल के अंदर प्रवेश नहीं कर सकते |

मुंबई टाटा समूह के जमशेद टाटा भी 7 जुलाई 1896 को लुमायर भाइयो की फिल्म देखने वॉटसन होटल में गए थे लेकिन भारतीय होने के कारन उन्हें होटल के अंदर प्रवेश नहीं मिला और तभी उनके दिल को बहुत ठेस पहुंची, जमशेद टाटा ने 2 साल बाद वॉटसन होटल की इमारतों को धूमिल करदे एक शानदार ताज होटल का निर्माण कराया, 14 दिसंबर 1903 में यह सुन्दर होटल बनकर तैयार हो गया था उस समय इस होटल के दरवाजे पर एक तख्ती भी लटकती थी जिस पर लिखा होता था ब्रिटिश और बिलिया अंदर नहीं आ सकती,116 साल पुराणी इस ईमारत में 560 कमरे एवं 44 सुइट्स है मुंबई का यह पहला होटल था जिसमे बिजली थी उद्धघाटन के दिन 17 मेहमान इस होटल में रुके थे जिनका किराया एक कमरे का सिर्फ 10 रूपये था उस समय इस होटल के निर्माण में लगभग 25 लाख रूपये खर्चा आया था इस होटल को बनाने का काम अंग्रेज इंजीनयर डब्लू ए चैंबर्स को दिया गया था उन्ही की देख रेख में इसका निर्माण हुआ था और इसका श्रय खान साहेब सोराबजी रतन जी को भी जाता है|

ताज महल होटल की सुंदरता

इस होटल की सुंदरता के बारे में जितनी तारीफ की जाये उतनी ही कम है इस होटल के अंदर लग्जरी कमरों के साथ साथ वो सारी सुविधाएं उपलब्ध है जो एक पांच सितारा होटल में होती है जैसे की बिसनेस सेंटर, कॉन्फ्रेंस रूम, स्वीमिंग पूल, फिटनेस जिम, स्पा और बॉडी मसाज, रेस्टोरेंट, चिल्ड्रन्स प्ले एरिया, और यहां पर खाने के लिए हर तरह की डिशिस बनती है जो की खाने में बेहद लजीज होती है

 

मुंबई के ताज होटल पर आतंकी हमला

उस दिन 26 नवंबर 2008 की रात थी जब आतंकियों ने मुंबई के ताज होटल पर हमला किया था जिसके कारन ताज होटल को बहुत नुकसान पंहुचा था उस रात इस होटल के अंदर 3 आतंकी घुसे थे और बन्दुक की नोक पर वहा तोड़फोड़ कर रहे थे उन्होंने वहा पर काफी यात्रियों को गोली भी मारी थी और होटल को अंदर से पूरा तहस नहस कर दिया था

2008 के आतंकी हमले

२६ नवम्बर २००८ को, मुंबई में आतंकियों के सिलसिलेबार हमलों में इस होटल पर (साथ ही साथ ओबेरॉय होटल पर भी) हमले हुए, जिसके दौरान होटल को भौतिक क्षति पहुंची, जिसमें कि होटल की छत का विध्वंस भी शामिल है। हमले के दौरान लगभग ४५० लोग ताज महल पैलेस एंड होटल में ठहरे हुए थे तथा अन्य ३८० लोग होटल ओबेरॉय में ठहरे थे। हमले के तुरंत बाद (30 नवम्बर) में, ताज महल होटल के चेयरमैन रतन टाटा नें सी.एन.एन. के ‘फरीद ज़कारिया’ के साथ हुए एक साक्षात्कार में कहा कि उन्हें हमलों की पूर्व सूचनाएं पहले ही मिल गयी थी, जिससे कुछ सावधानियां सुचारू रूप से बरती जा रहीं थीं।

‘ताज महल पैलेस एंड टावर होटल’ के कम क्षति वाले हिस्सों को 21 दिसम्बर 2008 को खोल दिया गया। जबकि ताज महल पैलेस होटल के प्रसिद्ध विरासत वाले खंड के पुनर्निर्माण में कुछ महीनों का समय लगा। जुलाई 2009 में हिलेरी क्लिंटन नें ताज होटल में निवास किया। “मेरी तथा मेरा देश की सहानुभूति और सहयोग ताज के उन अतिथियों एवं कर्मियों से है जिन्होनें अपने प्राण गँवा दिए”, ऐसा क्लिंटन नें भारत के “टाइम्स नाउ” पत्र के साथ हुए एक साक्षात्कार में कहा। 15 अगस्त 2010 को, ताज महल पैलेस को मरम्मत के बाद पुनः खोल दिया गया। होटल की मरम्मत में अब तक 1.75 बिलियन रुपये का खर्चा हो चुका है (अनुमानतः $40 मिलियन यू. एस. डी.)। 6 नवम्बर को, यूनाइटेड स्टेट्स के प्रेसिडेंट बराक ओबामा पहले विदेशी हेड ऑफ़ स्टेट बने जिन्होंने हमलों के बाद ताजमहल पैलेस में निवास किया। होटल की छत पर हुए एक संबोधन में ओबामा नें कहा कि, “ताज भारतीयों के संगठन एवं अनुकूलन का प्रतीक रहा है।”

इस होटल में उस दिन लगभग 500 पर्यटक ठहरे हुए थे आतंकियों ने उन पर भी गोलियों की बौछार की जिससे वो काफी घबरा गए थे जिसमे से काफी पर्यटक घायल हुए थे और कुछ गोली से मारे गए थे इसके बाद होटल की सुरक्षा के लिए मुंबई पुलिस और मिलट्री फाॅर्स के जवान वहा पर पहुंच गए और काफी घंटो तक आतंकियों और पुलिस फाॅर्स के बिच गोली बरी होती रही लेकिन आतंकियों ने हार नहीं मानी, काफी मशक्कत करने के बाद मुंबई पुलिस और मिलट्री के जवानो ने ताज होटल को आतंकियों से चुंगल से छुड़वाया, ताज होटल को काफी नुकसान हुआ था उस बिच होटल को कुछ समय के लिए बंद करदिया गया था इस दौरान हमारे देश के कुछ जवान भी शहीद हुए थे,

ताज होटल का हमले के बाद पुनः निर्माण

ताज होटल के पुनः निर्माण के लिए लगभग 1.75 मिलियन का खर्चा आया था और 15 अगस्त 2010 में इस होटल को पर्यटकों के लिए खोल दिया गया था इसके बाद इस होटल की सुंदरता को और अधिक सुंदर बना दिया गया था काफी पर्यटक पुनः निर्माण के बाद होटल में ठहरने के लिए आये थे

ताज होटल में हमले के पुनःनिर्माण के बाद 6 नवम्बर 2010 में यूनाइटेड स्टेटस के जाने माने प्रेसिडेंट बराक ओबामा इस होटल में आये थे और यहां पर रुके भी थे बराक ओबामा एक पहले ऐसे विदेशी थे जो हमले के बाद होटल में रुके थे और उन्होंने वहा पर उन सभी शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की जिनकी मुंबई हमले में जान चली गयी थी और उन्होंने अपने संबोधन में यही कहा था ताज भारतीयों के संगठन एवं अनुकूल का प्रतिक है जो भारतीय संस्कृति को दर्शाता है |

भोजनकक्ष

इस हॉटेल के साथ सर्वश्रेष्ठ भोजनालयौ के कुछ उपहारगृह है, वे हैं -

  • एक्वेरियस
  • शेफ्स स्टूडियो
  • गोल्डन ड्रैगन
  • हारबर बार
  • ले पेटिजेरी
  • मसाला क्राफ्ट
  • सी लांज
  • शामियाना
  • सोक
  • स्टार बोर्ड बार
  • वासबी वाई मोरिमोटो
  • जोडिअक ग्रिल

निर्माण

स्थापत्य कला की अद्भुत मिसाल समझे जाने वाले इस होटल का निर्माण भारत के इस्पात पुरुष जमशेदजी टाटा ने 1903 में कराया था। इसके निर्माण पर उस समय करीब 25 लाख रुपया लगा था। ऐसा कहा जाता है कि श्वेतों के लिए बने वाट्सन होटल में प्रवेश की अनुमति नहीं मिलने पर जमशेदजी टाटा ने भारत के इस पहले लक्जरी होटल का निर्माण कराया था, जहाँ बिल क्लिंटन सहित कई नामचीन हस्तियाँ कभी ठहर चुकी हैं। कुनाल नकुम नकुम नामक लड्के ने इसे बच्हया था।

Massage (संदेश) : आशा है की "जानिए कौन है। ताज होटल का मालिक? | Taj Hotel ka Malik kaun hai ? | who is the owner of Taj Hotel ?" आपको पसंद आयी होगी। कृपया अपने बहुमूल्य सुझाव देकर हमें यह बताने का कष्ट करें कि Motivational Thoughts को और भी ज्यादा बेहतर कैसे बनाया जा सकता है? आपके सुझाव इस वेबसाईट को और भी अधिक उद्देश्यपूर्ण और सफल बनाने में सहायक होंगे। आप अपने सुझाव निचे कमेंट या हमें मेल कर सकते है!
Mail us : [email protected]

दोस्तों अगर आपको हमारा post पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ share करे और उनकी सहायता करे. आप हमसे Facebook Page से भी जुड़ सकते है Daily updates के लिए.

इसे भी पढ़े :

Leave a Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here