Computer Hardware क्या है और कितने प्रकार के हैं? What is Computer Hardware and How Many Types of Hardware in a Computer

Computer Hardware क्या है और कितने प्रकार के हैं? What is Computer Hardware and How Many Types of Hardware in a Computer

Computer Hardware क्या है और कितने प्रकार के हैं?

हार्डवेयर किसे कहते है? आज की इस पोस्ट में आप जानेंगे Hardware क्या है और कितने प्रकार के होते है? अगर आप Computer में रुचि रखते है, तो आपने हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर इन दो शब्दों के बारे में जरूर सुना होगा. क्योंकि यह दोनों मुख्य Computer parts है, इनके बिना कंप्यूटर का कोई अस्तीत्व नही है. यह बिल्कुल ऐसा ही है, जैसे बिना शरीर और मन का इंसान. इसीलिये अगर आप कंप्यूटर के इन भागो की functionality समझ ले तो बुनियादी कंप्यूटर समस्या का निवारण आप बड़ी आसानी से कर सकते है।

हार्डवेयर की परिभाषा व इसके कार्य Software से बिल्कुल भिन्न है।लेकिन यह बात भी सच है, कि यह एक दूसरे के बिना किसी काम के नही है।असल मे Hardware कंप्यूटर के एक तरह के कार्य को करते है और सॉफ्टवेयर दूसरे तरह के इसीलिये एक की अनुपस्थिति में दूसरा किसी काम का नही रह जाता।तो चलिये इस पोस्ट को शुरू करते है और उदाहरण के साथ जानते है, हार्डवेयर क्या होता है।

हार्डवेयर क्या है?

कंप्यूटर का Physical Component  को हार्डवेयर बोला जाता है।अगर सरल भाषा में आपको समझाऊं तो कंप्यूटर के जिस हिस्से को हम देख सकते हैं और उन्हें छू भी सकता है उन्हें हार्डवेयर बोला जाता है।

Computer में  जितने भी Output Device, Input Device, Storage Device होते हैं वह सभी एक हार्डवेयर हैं।बिना हार्डवेयर (Hardware) के कंप्यूटर को सोचा भी नहीं जा सकता और ना ही बिना हार्डवेयर के कंप्यूटर मौजूद होगा. किसी भी सॉफ्टवेयर का उपयोग हम बिना हार्डवेयर के नहीं कर सकते हैं।दोस्तों सॉफ्टवेयर वह होता है जिसे हम देख तो सकते हैं लेकिन हम उसे छू नहीं सकते।

अगर हमें कुछ भी काम करवाना हो कंप्यूटर से तो हमें Hardware और Software दोनों का इस्तेमाल करना होगा उस काम को पूरा करने के लिए. दोस्तों इस बात को समझाने के लिए मैं आपको एक उदाहरण बताता हूं- अगर आपको कंप्यूटर में गाना सुनना है तो ऐसा तो नहीं होगा कि कंप्यूटर गाना चालू कर दे और आप उसको सुन लेंगे,इसके लिए हमें पहले Window Media Player  में गाना चालू करना पड़ेगा और फिर वही गाना हम speaker के जरिए सुन सकेंगे।तो दोस्तों इससे आप यह समझ गए होंगे कि सभी हार्डवेयर को सॉफ्टवेयर के जरिए से ही नियंत्रण किया जाता है।

हार्डवेयर के प्रकार (Types of Hardware in Hindi)

दो प्रकार के system आप देखे होंगे 1. Laptop 2. Desktop. Laptop के सारे physical components जुड़े हुए रहते हैं।मगर desktop के components अलग अलग आते हैं।लेकिन hw लगभग दोनों में एक जैसे होते हैं।चलिए इन Hardware के प्रकार और Examples के बारे में जानते हैं।

Keyboard(कीबोर्ड)

यह एक Input device है. इस Hardware के बिना तो कंप्यूटर में कुछ डाटा ENTER भी नहीं कर सकते हैं।इसी के मदद से हम Computer के सारे लिखने वाले कार्य कर सकते हैं।आप जो अभी पढ़ रहे हैं वो भी इसी के Keyboard से लिखा गया है।इस electronics Devices देख भी सकते हैं और छु भी सकते हैं।सबसे ज्यादा इस्तमाल किए जाने वाले devices में से यह एक है. इसके अंदर भी दूसरे Hw component होते हैं. इस device USB Port में लगाया जाता है।

Mouse(माउस)

इसे pointing device और Cursor Moving Device के नाम से भी जाना जाता है. एक Mouse में 2 या 3 button हो सकते हैं. जेसे की दायां , बायां , और मध्य button (Left key, Right key, Middle key Roller). ये सभी एक एक HW हैं. Mouse को Flat Surface पे या Mouse Pad पे रखा जाता है। Cursor को Control करने के लिए इसका इस्तमाल किया जाता है।

Scanner(स्कैनर)

यह एक कंप्यूटर का बहारी HW है।Scanner का प्रयोग करके लिखित कागजात और तस्वीरों को digital चित्र में परिवर्तित कर memory में सुरक्षित रखा जा सकता है।Scanner के जरिये documents को भी scan कर कंप्यूटर में स्टोर किया जा सकता है।इसे Extenal H/W कहते हैं।

Monitor(मॉनिटर )

कंप्यूटर मॉनिटर एक electronic device है जो की कुछ Computer में output दिखाने के लिए किया जाता है।यह बिलकुल एक T.V के तरह दीखता है. एक बड़ा और बढ़िया display resolution हमे अछि तस्वीर दिखाता है।ये Hardware LAPTOP में छोटा साइज़ का होता है और Desktop में थोडा बड़ा होता है।

CRT Monitor-

ये भारी और बड़े होते हैं और बहुत deskspace और electricity इस्तमाल करते हैं. यह सबसे पुरानी इस्तमाल किये जाने वाली technology है।यह cathode ray tube technologyआधारित है जोकी television के लिए बनाए गए थे.मगर ये monitor आज कल नहीं चलते।

LCD Monitor-

एक तरीके का flat panel display है।ये CRT के मुकाबले नयी तकनीक है।ये monitors कम desk space इसतमाल करते हैं. यह कम वजन के होते हैं. यह monitors कम electricity इस्तमाल करते हैं. एक अरसे से यही monitors का इस्तमाल किया जा रहा है laptops और notebook computers पे, ये touchscreens का भी काम करते हैं tablet computers, mobile phones पे।

Speaker-

यह भी External Hardware हैं।इसके इस्तमाल से हम ध्वनि सुन सकते हैं।यह ध्वनि के रूप मे output देता है।आज कल ये system में inbuilt रहता है।

प्रिंटर(Printer)-

 इसकी सहायता से हम स्क्रीन पर अंकित या प्रदर्शित हो रहे परिणाम को हम कागज़ या किसी ठोस वस्तु पर अंकित कर सकते है। हमने आदेश दिया और प्रिंटर हम कागज पर अंकित कर हमारे आदेश का पालन करता है।

मदर बोर्ड 

MOTHERBOARD एक इलेक्ट्रॉनिक सर्किट है जो कंप्यूटर के प्रत्येक पार्ट्स मे तालमेल बनता है |मदर बोर्ड से कनेक्ट सभी डिवाइस आपस में कम्युनिकेशन ( डाटा का आदान-प्रदान ) कर सकते है |मदर बोर्ड पर कई साडी BUS-LINES होती है जो डाटा के कम्युनिकेशन के जिमेदार होती है |मदर बोर्ड पर BUSलाइन के अलावा CPU,PCI SLOTS,GRAPHIC CARDSBIOS ,MEMORY,SERIAL IN OUT LINES भी होती है।

प्रोसेसर-

प्रोसेसर कंप्यूटर का दिमांग है | जिस तरह मानव शरीर द्वारा किये जाने वाली साडी गतिविदियो पर मानव मस्तिक कण्ट्रोल करता है उसी प्रकार कंप्यूटर द्वारा किये जाने व्काली सारी PROCESSING CPU करता है | इनपुट देवीचे से डाटा लेकर ,दिए गये निर्देशो को पेर्फ्रोम करता है , उन्हें उचित डिवाइस को भेज देता जो आगे की कायवाही करते है |दूसरी भाषा में,CPU यूजर द्वारा दिए निर्देशो का पालन करवाता है |CPU यूजर द्वारा दिए गये निर्देशो के क्रम को भी DECIDE करता है |

RAM (RADOM ACCESSS MEMORY )-

RAM एक VOLITILE ( EDITABLE ) मेमोरी है |यूजर द्वारा ओपन की गयी सभी फाइल की लोकेशन , प्रोग्राम और डाटा इसमें सबसे पहले स्टोर होते है | और कंप्यूटर द्वारा दिए गये आउटपुट भी यूजर को डिस्प्ले होने से पहले इसमें स्टोर होता है |CPU प्रोसेडिंग के दिए गये डाटा को यही से लेता है और प्रोसेडिंग के बाद , डाटा को उसके BUS ( ADDRESS कोड) के साथ RAM को भेज देता है |

ROM (READ ONLY MEMORY)-

ROM एक NON VOLETILE MEMORY (NON EDITABLE)है |ROM नका उपयोग छोटे प्रोग्राम को स्टोर करने के लिए किया जाता है |इसमें स्टोर प्रोग्राम स्थायी हो जता है | मुख्य रूप से , इसमें विंडोज प्रोग्राम ,BOOT के प्रोग्राम को स्टोर करते है |

SMPS

SMPS hardware का पूरा नाम है Switch Mode Power Supply .ये एक Electronic Circuit है।अगर Desktop के लिए अगर अलग से खरीदो गे तो आपको वो कुछ Square शेप का डबा मिलेगा वही SMPS है।ये Device Computer के अलग अलग हिस्सों को Power देता है जैसे की RAM, Motherboard, Fan को को power supply देता है।वैसे तो Motherboard से अलग अलग हिसों तक बिजली ज्याती है।

हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर के बीच अंतर क्या है-

Hardware Software
हार्डवेयर एक physical device है, जो computer के साथ भौतिक रूप से जुड़ा हुवा होता है। सॉफ्टवेयर एक निर्देश या program है, जो computer के specific
task को करने के लिये instructions देता है।
Computer hardware को आप देख व छू सकते है. उदाहरण के लिये Keyboard, Monitor, Mouse, CPU यह सभी hardware device है। Software को देखा छुवा नही जा सकता क्योंकि यह एक program है।
हार्डवेयर को physical materials या components के इस्तेमाल से बनाया जाता है। सॉफ्टवेयर को बनाने के लिये programming language में
inturctions लिखे जाते है।
यह software के नियंत्रण में संचालित होता है। यह कंप्यूटर के संचालन को नियंत्रित करता है।
अगर hardware खराब हो जाये तो इसे ठीक किया जा सकता है या फिर
नए से replace किया जा सकता है।
यदि कभी software corrupted या damage हो जाये तो आप इसकी backup copy को reinstalled कर इसे दुबारा ला सकते है।
हार्डवेयर पर computer virus का कोई फर्क नही पड़ता। जबकि कंप्यूटर वायरस software को बुरी तरह से प्रभावित कर सकते है।
हार्डवेयर के बिना कंप्यूटर का कोई अस्तित्व नही है, इसके बिना यह नही चल सकता है। बिना सॉफ्टवेयर कंप्यूटर चल तो सकता है, परन्तु यह कई error
उतपन्न करेगा और किसी भी जानकरी को output नही करेगा।

Massage (संदेश) : आशा है की "Computer Hardware क्या है और कितने प्रकार के हैं? What is Computer Hardware and How Many Types of Hardware in a Computer" आपको पसंद आयी होगी। कृपया अपने बहुमूल्य सुझाव देकर हमें यह बताने का कष्ट करें कि Motivational Thoughts को और भी ज्यादा बेहतर कैसे बनाया जा सकता है? आपके सुझाव इस वेबसाईट को और भी अधिक उद्देश्यपूर्ण और सफल बनाने में सहायक होंगे। आप अपने सुझाव निचे कमेंट या हमें मेल कर सकते है!
Mail us : jivansutraa@gmail.com

दोस्तों अगर आपको हमारा post पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ share करे और उनकी सहायता करे. आप हमसे Facebook Page से भी जुड़ सकते है Daily updates के लिए.

इसे भी पढ़े :

Leave a Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here