Processor क्या है और कैसे काम करता है? What is Processor and How it is Work

Processor क्या है और कैसे काम करता है? What is Processor and How it is Work

Processor क्या है और कैसे काम करता है?

आपका फिर से स्वागत है दोस्तों हमारे मोटिवेशनल वेबसाइटस पर आज फिर से आज हम आपको कंप्यूटर की जानकारी देने वाले है और आज हम आपको बताने वाले है की Processor क्या है और कैसे काम करता है? और साथ में आपने हमारा पिछले ब्लॉग जरूर से पढ़िएगा।तो चलिए शुरू करते आज का हमारा ब्लॉग-

आज की Post में आप जानेंगे की Processor Kya Karta Hai, I Hope Friends आपको हमारी सभी Post पसंद आ रही होगी, और हम उम्मीद करते है आप इसी तरह हमारी सभी Post पसंद करते रहे|

जिस तरह Computer में Processor लगा होता है उसी तरह से Smartphone में भी एक Processor होता है, Processor Smartphone के दिमाग के रूप में जाना जाता है, Smartphone के सभी कार्य इसके द्वारा किये जाते है|

आज के इस Technology के दौर में सभी Mobile का Use करते है, और इन्हें इनके Feature को देखते हुए खरीदते है, आज सभी लोग Phone खरीदने से पहले यहीं देखते है की उसमे कौन सा Processor लगा है|

अगर आप भी New Phone खरीद रहे है तो जान ले की Processor Kitne Prakar Ke Hote Hai,तो आइये दोस्तों जानते है Processor Meaning In Hindi, इसके बारे में अच्छे से समझने के लिए आपको हमारी यह Post शुरू से अंत तक पढ़ना होगी|

मोबाइल प्रोसेसर क्या है?

Processor Smartphone का Brain होता है, आप जो Work Mobile को देते है उसे पूरा करने का काम Processor का होता है, Mobile में Processor का सबसे ज्यादा काम होता है, हम जब भी Mobile में कुछ करते है तब हमारा Smartphone Processor को बताता है की वह उस काम के लिए तैयार रहे|

आप Mobile में कोई Application चलाते हैं तो उसके होने वाले ज्यादा से ज्यादा Function आपके Processor से Control होते हैं, यह Mobile द्वारा दिए गए Instructions को Process करते है|

प्रोसेसर क्या है?

यह एक बहुत ही उपयोगी माइक्रो चिप होती है जो कि motherboard के साथ CPU में लगा रहता है तथा इसके साथ साथ और भी कंप्यूटर से जुड़े हुए component भी attach रहते हैं जो कि कंप्यूटर को कंट्रोल और मैनेज करता है processor एक विशेष प्रकार की इलेक्ट्रॉनिक चिप होती है जिसे ज्यादातर हमारे कंप्यूटर सिस्टम , मोबाइल फोन, laptops , और टैबलेट्स इन सभी प्रयोग की जाती है

Processor इन सभी devices में एक मतिष्क Brain की तरह काम करता है इसलिये इसे Central processing unit कहा जाता है processor का काम user और कंप्यूटर के बीच में होने वाली बातचीत या कार्य को समझता है

इसी कारण processor user के द्वारा कंप्यूटर में दी गई इनपुट command को अच्छे से जान पाता है और साथ ही इनपुट command पर process या कार्य करके हमारे कंप्यूटर स्क्रीन पर आउटपुट devices के माध्यम से रिजल्ट यानी आउटपुट को display कर देता है processor की स्पीड को गीगाहर्टज में मापा जाता है क्योंकि जितना ज्यादा core का processor होगा वह उतना ही अच्छा काम करता है और हमारे इनपुट को जल्दी प्रोसेस करके कुछ ही सेकंड में आउटपुट display करेगा कुछ Core processor भी होते हैं जितने ज्यादा Core का processor होगा वह उतना ही अच्छा कंप्यूटर सिस्टम performance करेगा अगर single core processor होता तो वह ज्यादा heavy task तथा quality का output नहीं दे पाएगा अर्थात वह Hang होने लगेगा इसलिए आज कल जितने भी कंप्यूटर , मोबाइल , या लैपटॉप आदि गैजेट्स होते हैं उनमें 4 core , 6 core processor का प्रयोग किया जाता है।

सीपीयू-

प्रोसेसर और माइक्रोप्रोसेसर एक स्माल चिप होती है जो कंप्यूटर या इलेक्ट्रिक डिवाइस के मदरबोर्ड पर माउंटेड होती है। इसका बेसिक काम होता है इनपुट लेना और उसको प्रोसेस करके आउटपुट जेनरेट करना। देखने और सुनने में यह बहुत छोटा काम लगता है।

लेकिन प्रोसेसर हजारों गुना स्पीड से मल्टीप्ल टास्कस और trillions और calculations पर सेकेण्ड कर सकते हैं। माइक्रोप्रोसेसर और CPU दो अलग-अलग टर्म हैं लेकिन इनको interchangeably प्रयोग करते हैं इसके साथ-साथ प्रोसेसर को भी सेंट्रल प्रोसेसिंग युनिट कहा जाता है।

सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट के कार्य –  CPU Function in Hindi

कंप्यूटर के बारे में जानकारी हासिल करने वालों को CPU की पूरी जानकारी होनी जरुरी है. क्यों की अगर हम कहें की कंप्यूटर के बारे में सब कुछ जानते हैं और CPU क्या है ये मालूम ही नहीं तो फिर ये गलत बात है।कंप्यूटर के  मस्तिष्क के रूप में काम करने वाला भाग Central processing Unit आखिर काम कैसे करता है ? जो इतनी तेज़ स्पीड से हर कैलकुलेशन को seconds के अंदर में पूरा कर के हमारे प्रॉब्लम को हल कर देता है।ये एक चमत्कार नहीं बल्कि विज्ञानं है जो काम हम कॉपी और कलम से करने में घंटों लगा देते हैं उसे बस ये एक enter बटन प्रेस करते ही हल कर देता है. भले ही आज के CPU बहुत advance हो चुके हैं लेकिन इनके काम करने का तरीका वही basic फंक्शन है जो पुराने किया करते थे।इसके basic function fetch, decode और execute हैं. चलिए इनके बारे में detail में जानकारी हासिल करते हैं।

सीपीयू के प्रकार:-

पिछले कुछ वर्षों में CPU के कई प्रकार की आविस्कर हो चुकी है. जैसे जैसे समय बीतता गया वैसे वैसे requirement के अनुसार नए CPU आते गए. पहले processor को पहचानने के लिए number इस्तमाल किया जाता था. जैसे उदहारण के तोर पे Intel 80486 (486) processor बहुत ही ज्यादा तेज है 80386 processor से. जब से Intel ने Pentium Processor (Technically ये 80586 वाले हैं ) निकला है तब से Processors के नाम कुछ इस प्रकार हैं जैसे Athlon, Duron, Pentium और Celeron.

आजकल तो नाम के साथ साथ इनकी Architecture भी बदल गयी है, आमतोर से अब दो ही प्रकार के Architecture वाले Processor का इस्तमाल काफी किया जाता है जैसे 32बिट और 64बिट . इन architecture की बदौलत अब processor की Speed और Capabilities भी काफी बढ़ गयी है. जैसे AMD Opteron series और Intel Itanium, Xeon Series वाले processor को Server और High-end Station में इस्तमाल किया जाता है. और अगर बात की जाये छोटे device जैसे Smart Phones और Tablets तो वो ARM Processor का इस्तमाल करते हैं. ये processor आम तोर से size में छोटे होते हैं, इन्हें कम Power की जरुरत होती है और ये बहुत ही कम heat पैदा करते हैं।

Processor की Clock Speed क्या है?

इस Clock Speed को clock rate और processor speed भी कहा जाता है. Clock speed उस speed को कहा जाता है जिस speed से microprocessor प्रत्येक instruction को execute करती है या फिर clock का each vibration. चूँकि CPU को एक fixed number of clock ticks या cycles की जरुरत होती है प्रत्येक instruction को execute करने के लिए. इसलिए जितनी faster आपकी clocks rate होगी, उतनी की faster आपकी CPU भी होगी, या उतनी जल्दी से आपका processor instructions को execute कर सकता है.

Clock Speeds को MHz में मापा जाता है, 1 MHz का मतलब है की 1 million cycles per second, or या फिर GHz, 1 GHz का मतलब है की 1 thousand million cycles per second. एक general sense में कहें तब जितनी ज्यादा CPU की speed होगी, उतनी ही बेहतर आपका computer perform करेगा. दुसरे components जैसे की RAM, hard drive, motherboard, और number of processor cores (जैसे की dual core or quad core) के ऊपर भी computer speed निर्भर करती है.

ये CPU speed से ये पता चलता है की वो कितने calculations 1 second में कर सकता है. जितनी ज्यादा speed होगी, उतने ज्यादा calculations वो perform कर सकता है, जिससे आपका computer और भी faster run करेगा. Market में अलग अलग brands के computer processors available हैं, जैसे की इंटेल और AMD , लेकिन वो सभी समान CPU speed standard का पालन करते हैं, जिससे ये पता चल सके की कोन सा processor कितने speed में run करता है।

कोर प्रोसेसर क्या है?

मुख्यतः कोर सीपीयू की मूल गणना इकाई है। इंटेल प्रोसेसर्स हाइपरथ्रेडिंग का समर्थन करते है। आसान शब्दों में कहा जाए तो इंटेल द्वारा विकसित प्रोसेसर्स हाइपरथ्रेडिंग का प्रयोग करते हैं। हाइपरथ्रेडिंग तकनीक द्वारा एक प्रोसेसर दो लॉजिकल विभिन्न प्रोसेसरों के रूप में कार्य करता है उदाहरण के लिए आप वर्ड प्रोसेसिंग एप्लीकेशन में एक स्पेल चेक कर सकते हैं और एक समय में एंटीवायरस द्वारा सिस्टम स्कैन भी कर सकते है।

इसका सीधा अर्थ है कि एक प्रोसेसर ड्यूल कोर है तो दो लॉजिकल प्रोसेसर की तरह काम करेगा। क्वार्ड कोर 4 लॉजिकल प्रोसेसर की तरह और ओक्टा कोर आठ लॉजिकल प्रोसेसर की तरह काम करेगा। अधिक कोर होने का अर्थ है बहुत अच्छी प्रोसेसिंग स्पीड, ज्यादा तेज गेमिंग, फुल स्पीड मल्टी-टास्किंग, फास्ट-वीडियो एडिटिंग रेंडरिंग स्पीड, फुल एचडी वीडियो प्लेबैक करने की क्षमता आदि।

Processor कैसे काम करता है

प्रोसेसर के डिजाईन आम तोर से काफी complex होते हैं, और ये company से company बहुत vary करते हैं यहाँ तक की इनकी एक model दुसरे से काफी अलग होती है. अभी मार्किट में दो company जैसे Intel और AMD के processor काफी डिमांड में है. ये दो कंपनी हमेशा यही कोशिस में लगे रहते हैं की कैसे Processor की performance को ज्यादा बेहतर बनाये वो भी कम जगह और energy इस्तमाल कर. लेकिन इतनी सब architectural differences होने के वाबजूद Processor को मुख्य रूप से चार Process से गुजरना पड़ता है, और तभी जाकर वो instructions को process कर सकते हैं. ये चार process है,इसके चार प्रकार होते है।

Fetch (लाना)

Fetch का मतलब होता है “लाना”. इस स्टेप में प्रोग्राम मेमोरी से instruction receive किये जाते हैं. Instruction का मतलब numbers या series of numbers. Instruction बहुत सारे होते हैं लेकिन कैसे पता चलता है की कौन सा instruction किस location में है? तो इसके लिए एक Program counter (PC) होता है जो प्रोग्राम मेमोरी में  instruction के address(लोकेशन) को निर्धारित करता है. Program Counter instruction के address को number के रूप में स्टोर कर के रखता है. जब एक instruction fetch यानि receive कर लिया जाता है तो Program Counter के length को instruction की लम्बाई के अनुसार बढ़ा दिया जाता है ताकि वो अगले instruction का address रख ले.

Decode – व्याख्या करना

ममोरी से जो instruction fetch कर के लाया जाता है उससे ये पता चलता है की आखिर अब CPU को क्या काम करना है. Decode का मतलब होता है instruction को decoder. इस स्टेप में  instruction को एक circuit में pass कर दिया जाता है जिसे instruction decoder भी बोलते हैं, जो instruction को signal में convert कर देता है जिससे CPU के दूसरे पार्ट्स को कण्ट्रोल किया जाता है.

Execute – एक्शन लेना

Instruction लाने और उसे signal में convert कर लेने के बाद तीसरा स्टेप होता है execute. CPU के बनावट के अनुसार execute में एक action या फिर कई action हो सकते हैं. Decoded  instruction को CPU relavent parts तक भेजती है जिससे वो पार्ट्स instruction  के आधार पर अपना काम कर सके. इस तरह एक action या action की series को complete कर लिया जाता है. उसके बाद results को internal CPU register में write कर लिया जाता है. इससे बाद वाले instruction के लिए reference तैयार हो जाता है.

Writeback – वापस लिखना 

Execute के प्रोसेस के पूरा हो जाने के बाद writeback मिलने वाले result को memory के किसी रूप में sotre कर देता हैं. किसी ख़ास instruction set में इन्हे सीपीयू registor में write कर दिया जाता है जिससे इनको तुरंत access कर लिए जा सके. साधारण साधारण तोर पर इन्हे jumps के नाम से जानते हैं और इसका व्यवहार loop में होता है.

Massage (संदेश) : आशा है की "Processor क्या है और कैसे काम करता है? What is Processor and How it is Work" आपको पसंद आयी होगी। कृपया अपने बहुमूल्य सुझाव देकर हमें यह बताने का कष्ट करें कि Motivational Thoughts को और भी ज्यादा बेहतर कैसे बनाया जा सकता है? आपके सुझाव इस वेबसाईट को और भी अधिक उद्देश्यपूर्ण और सफल बनाने में सहायक होंगे। आप अपने सुझाव निचे कमेंट या हमें मेल कर सकते है!
Mail us : jivansutraa@gmail.com

दोस्तों अगर आपको हमारा post पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ share करे और उनकी सहायता करे. आप हमसे Facebook Page से भी जुड़ सकते है Daily updates के लिए.

इसे भी पढ़े :

Leave a Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here